आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और कोलकाता नाइट राइडर्स का गिरा ब्रांड वैल्यू

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

IPL 2020 से पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और कोलकाता नाइट राइडर्स का गिरा ब्रांड वैल्यू 

IPL 2020 से पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और कोलकाता नाइट राइडर्स का गिरा ब्रांड वैल्यू

2007 से आईपीएल की शुरुआत हुई तबसे अभी तक एक आईपीएल भी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने नहीं जीता है, वहीँ कोलकाता नाइट राइडर्स दो बार यह खिताब अपने नाम कर चुका है ऐसे में इसके बाद अब पिछले कुछ सालों से ही यह दोनों एक खराब फॉर्म से जुझ रही है, इसी कारण से इन दोनों ही टीमों की ब्रांड वैल्यू कम हो गई है और दूसरी ओर दो टीमें ऐसी भी हैं, जिनका ब्रांड वैल्यू बढ़ गया है.

आईपीएल में इन दो टीमों की गिरी ब्रांड वैल्यू

आईपीएल

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर एक ऐसी टीम है जिसका प्रदर्शन सबके समझ से बाहर है, यह टीम स्टार खिलाड़ियों से भरी हुई है  इनकी टीम में क्रिस गेल, ब्रेंडन मैकुलम, मिशेल स्टार्क, डेल स्टेन और विराट कोहली जैसे खिलाड़ी है. इसके बाद भी वह आज तक एक भी आईपीएल ट्राफी नहीं जीत सकी है.

इंडियन प्रीमियर लीग पर डफ और फेल्प्स द्वारा किए गए एक वार्षिक सर्वेक्षण के अनुसार टीम के लिए 8% ब्रांड वैल्यू में गिरावट आई है. वही दूसरी ओर आरसीबी ने एक और निराशाजनक सीजन के बाद अपने पूरे कोचिंग स्टाफ को बर्खास्त कर दिया

वही दूसरी ओर यही हाल है केकेआर का इसकी भी ब्रांड वैल्यू में 8 प्रतिशत का नुक्सान देखा गया है. अब इस टीम का फैन बेस सिर्फ विराट और शाहरूख खान के कारण ही बना हुआ है.

इस प्रकार है मुंबई इंडियन और चेन्नई का ब्रांड वैल्यू

IPL 2020 से पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर और कोलकाता नाइट राइडर्स का गिरा ब्रांड वैल्यू 1

ब्रांड वैल्यू के सबसे बड़े लाभार्थी एमएस धोनी की चेन्नई सुपर किंग्स हैं, जिन्होंने 2018 में खिताब जीता और 2019 में फाइनल में पहुंची. सीएसके ने अपने ब्रांड मूल्य में 13.1% का 732 करोड़ रुपये का भारी लाभ हुआ है.

वही दूसरी ओर एमआई की ब्रांड वैल्यू 809 करोड़ रुपये हो गई – पिछले साल से लगभग 8.5% की वृद्धि हुई है यह लगातार चौथा वर्ष है जब ब्रांड वैल्यू के मामले में एमआई चार्ट में सबसे ऊपर है.

हाल के वर्षों में लगातार बढ़त बनाने वाली टीम सनराइजर्स हैदराबाद है, जो आईपीएल की सबसे कम साल की फ्रेंचाइजी है. वही दूसरी ओर दिल्ली के लिए भी एक अच्छी खबरे है क्योंकि इसकी ब्रांड वैल्यू में भी इस साल 9% की वृद्धि हुई है.

डफ एंड फेल्प्स नेटवर्क के एक सदस्यों ने कहा है कि,

“इस साल मुंबई मुंबई इंडियंस ने खिताब जीत कर और चेन्नई सुपर किंग्स ने फाइनल तक पहुच कर और ऑन-फील्ड लगातार प्रदर्शन के कारण उन्होंने प्रायोजकों और विज्ञापनों के मालिकों का दिल खुश कर लिया है, जिसके चलते इनकी ब्रांड वैल्यू बढ़ गई है, वही दूसरी ओर रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (आरसीबी) और कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) ने इस साल खराब फॉर्म को बरकरार रख कर अपने ब्रांड वैल्यू में महसूस की है. इससे एक बात तो साफ है कि बड़ा शहर, फैन बेस और खिलाड़ी का नाम ब्रांड वैल्यू नहीं बढाता है बल्कि मैदान पर आपका प्रदर्शन आपको इस काबिल बनाता है.”

Related posts