इरफान पठान ने इशारों में की क्रुणाल पांड्या पर कार्यवाही की मांग, लिखा बड़ा पोस्ट 1

भारत के घरेलू क्रिकेट में फिलहाल टी-20 टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी का शुमार जारी है। इसी बीच पिछले दिनों सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी की बड़ौदा टीम के कप्तान और उपकप्तान में विवाद का मामला सामने आया। दरअसल टीम के उपकप्तान दीपक हुड्डा ने कप्तान क्रुणाल पांड्या पर आरोप लगाया की कप्तान ने उनके साथ बदतमीजी की, अब बड़ोदा टीम के पूर्व कप्तान इरफान पठान ने इसपर अपनी प्रतिक्रिया दी।

इरफान पठान ने की कार्यवाही की मांग

इरफान पठान ने इशारों में की क्रुणाल पांड्या पर कार्यवाही की मांग, लिखा बड़ा पोस्ट 2

बड़ौदा टीम के पूर्व कप्तान इरफान पठान ने दीपक हुड्डा और क्रुणाल पांड्या पांड्या के बीच हुए विवाद पर सख्त कदम उठाने की मांग की है। हालांकि इरफान पठान ने इसमें क्रुणाल पांड्या का नाम नहीं लिया। उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने इन सभी बातों का जिक्र किया।

इरफान पठान ने अपनी पोस्ट में कुछ ऐसे खिलाड़ियों का भी जिक्र किया, जो पिछले सीजन अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद टीम में जगह नहीं बना सके। आपको बता दे इफान पठान एक कप्तान के तौर पर लंबे समय तक बड़ोदा टीम का हिस्सा रह चुके हैं।

इरफान पठान ने लिखा पोस्ट

इरफान पठान ने इशारों में की क्रुणाल पांड्या पर कार्यवाही की मांग, लिखा बड़ा पोस्ट 3

इरफान पठान ने अपने इंस्टाग्राम पर शेयर किए गए, एक पोस्ट के कैप्शन में लिखा-

“इस महामारी के कठिन समय के दौरान, खिलाड़ी के मानसिक स्वास्थ्य का अत्यधिक महत्व होता है, क्योंकि उन्हें बायो-बबल में रहना पड़ता है और साथ ही खुद को खेल पर केंद्रित रखना होता है, ऐसे में किसी भी घटनाओं का खिलाड़ी पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है और इससे बचना चाहिए।”

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Irfan Pathan (@irfanpathan_official)

दीपक हुड्डा के साथ हुए रवैये से पठान नाखुश

इरफान पठान

इरफान पठान ने जो पोस्ट किया है इसमें उन्होंने लिखा है-

बड़ोदा टीम का पूर्व कप्तान होने के तौर पर और कई युवा खिलाड़ियों का सलाहकार होने के तौर पर मैं समझ सकता हूँ की की युवा खिलाड़ियों को टीम में कैसा माहौल देना है, जिससे वह टीम के लिए अपना बेस्ट दे सके।

मैंने दीपक हुड्डा के साथ हुए गलत व्यवहार के बारे में सुना, अगर यह सच है तो यह काफी हैरान करने वाली बात है, किसी भी खिलाड़ी के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए।

हाल ही में कई युवा खिलाड़ी आए, जो 30 साल से कम की उम्र में अच्छा प्रदर्शन किए, लेकिन उन्हे टीम के चयन के दौरान नजरअंदाज किया गया। जैसे की आदित्य वाघमोडे जिन्होंने बड़ोदा टीम के लिए आखिरी सीजन सर्वाधिक 364 रन बनाए थे।

साथ ही स्वप्निल सिंह जिन्होंने ऑलराउंडर प्रदर्शन किया था, और 216 रन बनाए थे 10 विकेट झटके थे। मैं बड़ोदा क्रिकेट बोर्ड के मेंबर्स से अनुरोध करना चाहता हूँ की इसपर कड़ा रुख अपनाए क्योंकि क्रिकेट के लिए यह अच्छी बात नहीं है।”