/

आईपीएल में अनसोल्ड रहने वाले इरफान पठान के लिए आई अच्छी खबर, अब इस टीम में मिली इस स्टार खिलाड़ी को जगह

सोमवार(20 फ़रवरी) को आईपीएल के लिए बैंगलोर में हुई नीलामी में आल-राउंडर इरफान पठान को कोई ख़रीददार नहीं मिला. नीलामी के 2 दिनों बाद पठान के लिए एक अच्छी ख़बर सामने आई हैं. आगामी विजय हजारे ट्राफी के लिए आल-राउंडर इरफ़ान पठान को बड़ौदा टीम का कप्तान बनाया गया हैं. खत्म हुआ इरफ़ान पठान का करियर आईपीएल में किसी भी टीम ने नहीं खरीदा

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

सोमवार को आईपीएल नीलामी के दौरान आल-राउंडर इरफान पठान को 50 लाख की बेस प्राइस वाले खिलाडियों में रखा गया था, लेकिन फिर भी पठान पर किसी भी आईपीएल फ्रंचाईजी ने विश्वास नहीं दिखाया.

वही दूसरी ओर 25 फ़रवरी से शुरू होने वाले एकदिवसीय टूर्नामेंट के लिए आल-राउंडर इरफ़ान पठान के बड़े भाई यूसुफ़ पठान और तेज गेंदबाज़ मुनाफ़ पटेल को बड़ौदा टीम में जगह नहीं मिली हैं.

यूसुफ़ पठान और मुनाफ़ पटेल को टीम में जगह देने के फ़ैसले पर बरौडा क्रिकेट एसोसिएशन के अधिकारी ने कहा, “पिछले कुछ समय से यूसुफ़ पठान अच्छा प्रदर्शन नहीं कर रहे थे, इसलिए उन्हें टीम से बाहर किया हैं. इस सीजन रणजी ट्राफी में भी यूसुफ़ पठान ने ज्यादा रन नहीं बनायें, यहाँ तक सैयद मुश्ताक अली ट्राफी में भी उन्होंने सिर्फ एक अर्द्धशतक लगाया हैं. मुनाफ़ ने भी गेंद से अच्छा प्रदर्शन नहीं किया हैं. हमने इन दो बड़े खिलाड़ियों की जगह युवा खिलाड़ियों को मौका देने का फ़ैसला लिया हैं.” इरफ़ान पठान ने व्यक्त की निराशा, कहा नाकाबिल नहीं हूँ मैं

यूसुफ़ ने 5 रणजी मैचो में केवल 76 रन बनायें जबकि मुनाफ़ को 3 रणजी मैचो में सिर्फ़ 6 विकेट मिले.

बड़ौदा क्रिकेट एसोसिएशन के चयनकर्ताओ ने अनुभवी के स्थान पर केदार देवधर, कृनल पंडया, मोनिल पटेल जैसे युवा खिलाड़ियों को मौका दिया हैं.

विजय हजारे ट्राफी के लिए युवा तूफ़ानी बल्लेबाज़ दीपक हुड्डा उपकप्तान होगे, जबकि पीनल शाह को विकेटकीपिंग की ज़िम्मेदारी दी गई. विडियो : आज ही के दिन 11 साल पहले इरफ़ान पठान ने रचा था इतिहास

विजय हजारे ट्राफी के लिए बड़ौदा के टीम:-

इरफ़ान पठान(कप्तान), दीपक हुड्डा(उपकप्तान), पीनल शाह(विकेटकीपर), अतीत सेठ, आदित्य वाघमोडे, विष्णु सोलंकी, स्वप्निल सिंह, सोएब ताई, करूणाल पांड्या, बाबाशफी पठान, केदार देवधर, लुकमान मेरिवाला, अभिजित कराम्बेलकर, ऋषि अरोठे