///

इरफान पठान ने बताया, आखिर क्यों रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी है बेस्ट

भारतीय क्रिकेट टीम ने पिछले कुछ सालों में क्रिकेट जगत में बड़ा रूबता दिखाया है। भारतीय टीम का प्रदर्शन बहुत ही जबरदस्त रहा जिसमें पूरी टीम का एक बड़ा योगदान है। उनके इसी योगदान के कारण आज भारतीय टीम बहुत ही अच्छे स्थान पर है। भारतीय टीम की सफलता में एक बड़ा हाथ सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और शिखर धवन का भी रहा है।

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

भारत के लिए पिछले कुछ साल से रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी रही है काफी सफल

शिखर धवन और रोहित शर्मा… ये दोनों ही सलामी बल्लेबाज भारतीय टीम के लिए वनडे क्रिकेट में पिछले करीब 7 साल से सलामी शुरुआत दे रहे हैं। इन दोनों ही बल्लेबाजों ने अब तक सबसे सफलतम जोड़ी के रूप में अपने आप को स्थापित किया है।

शिखर धवन

साल 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से ही इस जोड़ी ने खूब रंग जमाया है। रोहित शर्मा और शिखर धवन ने साल दर साल अपने प्रदर्शन को आगे ले जाते रहे और भारत और विश्व क्रिकेट में एक बेहतरीन सलामी जोड़ी बने।

रोहित और धवन की जोड़ी ने अबतक की है 16 बार शतकीय साझेदारी

भारत के लिए गौतम गंभीर और वीरेन्द्र सहवाग के रूप में जबरदस्त जोड़ी थी जिनके टीम से बाहर होने के बाद उस जिम्मेदारी को रोहित शर्मा और गौतम गंभीर ने बखूबी रूप से आगे बढ़ाया और जबरदस्त सफलता हासिल की।

इरफान पठान ने बताया, आखिर क्यों रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी है बेस्ट 1

इस जोड़ी ने अब तक 16 बार शतकीय साझेदारी को अंजाम दिया है। वो वनडे क्रिकेट इतिहास में संयुक्त रूप से ऑस्ट्रेलिया की जोड़ी एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडन के साथ संयुक्त रूप से दूसरे स्थान पर हैं तो वहीं पहले नंबर पर सचिन तेंदुलकर और सौरव गांगुली की जोड़ी है जिन्होंने 21 बार शतकीय साझेदारी की।

इरफान पठान ने बतायी इस जोड़ी की सफलता का राज

इन दोनों ही सलामी बल्लेबाजों ने ये सफलता अपने आपसी तालमेल से हासिल की है। इस जोड़ी की सफलता को लेकर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी इरफान पठान ने बड़ी बात कही है और उनकी सफलता का राज बताया है।

इरफान पठान ने बताया, आखिर क्यों रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी है बेस्ट 2

 

इरफान पठान ने क्रिकेट कनेक्टेड में बात करते हुए कहा कि” क्रिकेट में आपको अपनी ताकत और कमजोरी को समझने के लिए दूसरे छोर पर रहने की जरूरत होती है। शिखर को पता है कि रोहित को शुरुआत में कुछ ओवरों की जरूरत पड़ती है। ऐसे समय में शिखर जिम्मेदारी उठाते हैं। और मुझे लगता है कि इस वजह से वो सफल भी हैं। जब गेंदबाज के लिए स्पिनर आते हैं तो तब तक रोहित शर्मा क्रीज पर जम चुके होते हैं। और वो शिखर से सारी जिम्मेदारी अपने ऊपर ले लेते हैं।”