इरफान पठान

विश्व क्रिकेट में स्विंग के सुल्तान के नाम से अपनी पहचान बनाने वाले इरफान पठान ने शनिवार को अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर को अलविदा कह दिया. संन्यास का ऐलान करते हुए इरफान ने फैंस व साथी खिलाड़ियों से मिले प्यार के लिए शुक्रिया अदा किया. इरफान के संन्यास के बाद उनके बड़े भाई और साथ खेल चुके युसुफ पठान ने भावुक होते हुए कहा कि मैं इरफान के चलते ही इतना नाम कमा सका.

बचपन में मैं करता था बेईमानी

इरफान पठान

एक वक्त भारतीय क्रिकेट टीम में ‘पठान ब्रदर्स’ खेलते थे. दोनों खिलाड़ी 2007 में विश्व कप विजेता रही भारतीय टीम के सदस्य थे. इरफान के संन्यास के बाद युसुफ पठान ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू के दौरान कहा,

अगर मैं पुराने वक्त में जाऊं तो मुझे याद है कि हम काफी लड़ा करते थे. जैसा कि मैं बड़ा भाई था तो मैं काफी अधिक बेईमानी करता था. जाहिर है.

हमने साथ में काफी क्रिकेट खेला करते थे जिसके लिए हमें घर में काफी डांट तो पड़ती ही थी साथ ही कभी-कभी मार भी पड़ती थी. इसने हमें काफी मजबूत बनाया.”

इरफान की वजह से मिली मुझे पहचान

इरफान पठान

भाई के संन्यास लेने पर भावुक हुए युसुफ पठान ने याद किए बीते दिन... 1

युसुफ पठान ने जब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था तब तक इरफान पठान ने अपना काफी नाम बना लिया था. इसलिए युसुफ का मानना है कि इरफान के चलते ही उन्हें अधिक पहचान मिली. इसपर युसुफ ने कहा,

इरफान के वजह से ही मैं भी चर्चित बना और अपना नाम बना सका. जब मैं घरेलू क्रिकेट खेलता था, तो लोग जानते थे कि मैं इरफान का भाई हूं. यहां तक कि मेरे मोहल्ले में भी लोग मुझे इरफान के भाई के रूप में ही जानते थे. मुझे हमेशा उनके भाई के तौर पर पहचाने जाने पर गर्व है.

एक तरह से हमने बड़ौदा को क्रिकेट के मैप पर दोबारा जगह दिलाई. अब लोग बड़ौदा को इरफान पठान से जोड़कर देखते हैं.

एक्शन बदलने से नहीं बदली इरफान की गेंदबाजी

इरफान पठान

इरफान ने 2006 में पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट के पहले ओवर में अपनी बेहतरीन स्विंग की बदौलत हैट्रिक हासिल कर इतिहास रचा. लेकिन इरफान को अपने करियर के दौरान कई बार इंजरी का सामना करना पड़ा था. इजंरी के बारे में बात करते हुए युसुफ ने कहा,

इरफान को अपने करियर में कई बार चोटों का सामना करना पड़ा. जिसमें अधिकतर बार उन्होंने फिट होकर टीम में वापसी कर ली. मगर इंजरी के समय जब कोचों ने उन्हें अपनी बॉलिंग स्टाइल बदलने की सलाह दी.

तो उन्होंने शायद यह उसकी बेहतरी के लिए किया था. मुझे नहीं लगता इसके बाद उन्होंने अपनी गेंद को स्विंग करने की क्षमता खो दी. वह अभी भी नई गेंद को स्विंग करता है. मौजूदा वक्त में कौन पहले पांच ओवर के बाद गेंद से स्विंग करेगा?

आपको बता दें, 2003 में भारतीय क्रिकेट टीम में टेस्ट डेब्यू करने वाले तेज गेंदबाज इरफान पठान ने भारत के लिए 29 टेस्ट, 120 वनडे और 24 टी20 इंटरनेशनल मैचों में क्रमश: 100, 173 और 28 विकेटों समेत कुल 301 इंटरनेशनल विकेट झटके.