//

फिटनेस कमेंट पर मोहम्मद कैफ को करारा जवाब देते हुए इरफान पठान ने कहा, क्या हम चने बेच रहे थे?

आधुनिक क्रिकेट में फिटनेस का महत्व बहुत ज्यादा बढ़ गया है. वर्तमान का हर खिलाड़ी ही अपने आप को फिट रखने के लिए अब घंटो जिम में पसीना बहाते हैं और जमकर योगा भी करते हैं. खिलाड़ियों की शानदार फिटनेस का ही नतीजा है कि अब मैदान में खिलाड़ी अपना 100 प्रतिशत देते हुए नजर आते हैं. वर्तमान समय में भारतीय टीम में कई फिट खिलाड़ी है, जो मैदान पर शानदार फील्डिंग करते हैं.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

2000 के दशक में भारत के पास थे गिने-चुने बेहतरीन फिटनेस के खिलाड़ी

फिटनेस कमेंट पर मोहम्मद कैफ को करारा जवाब देते हुए इरफान पठान ने कहा, क्या हम चने बेच रहे थे? 1

भले ही वर्तमान समय में भारत के आधे से ज्यादा खिलाड़ी बेहतरीन फिटनेस के हो, लेकिन ऐसा 2000 के दशक में नहीं था. दरअसल उस समय भारत के पास गिने-चुने ही खिलाड़ी ऐसे थे, जो बेहतरीन फिटनेस के थे.

उस समय मोहम्मद कैफ, युवराज सिंह, लक्ष्मीपति बालाजी जैसे खिलाड़ी ही फिटनेस के मामले में आगे थे. अन्य खिलाड़ी औसत दजे के ही फिट थे.

यो-यो टेस्ट होता, तो हम 3 खिलाड़ी ही पास कर पाते

फिटनेस कमेंट पर मोहम्मद कैफ को करारा जवाब देते हुए इरफान पठान ने कहा, क्या हम चने बेच रहे थे? 2

यूसुफ पठान और मोहम्मद कैफ लाइव इंस्टाग्राम चैट पर बात कर रहे थे और फिटनेस को लेकर चर्चा हो रही थी. जिसमें कैफ का एक बयान यूसुफ पठान के छोटे भाई इरफान पठान को पसंद नहीं आया और उन्होंने तुरंत इस बात का जवाब मोहम्मद कैफ को दिया.

युसूफ पठान के साथ इन्स्टाग्राम लाइव चैट के दौरान मोहम्मद कैफ ने दावा किया कि अगर उनके समय पर यो-यो टेस्ट होता तो वो खुद, लक्ष्मीपति बालाजी और युवराज सिंह तीन ही क्रिकेटर ऐसे होते, जो टेस्ट पास कर पाते.

क्या हम चने बेच रहे थे?

फिटनेस कमेंट पर मोहम्मद कैफ को करारा जवाब देते हुए इरफान पठान ने कहा, क्या हम चने बेच रहे थे? 3

यह बात भारत के पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान को कुछ खास पसंद नहीं आई, वो बीच चैट में कूद पड़े और उन्होंने मोहम्मद कैफ को जवाब देते हुए कहा, “मैंने आपका बयान सुना कि अगर हमारे समय में यो-यो टेस्ट होता, तो बालाजी, आप और युवराज ही इसको पास कर पाते. फिर हम क्या कर रहे थे, क्या हम चने बेच रहे थे? (हंसते हुए) मैं आपके साथ दौड़ता था, आपका स्कोर 16 होता था और मेरा एवरेज 15.5 होता था”

इरफान पठान ने साथ ही बताया कि भारतीय टीम के उस समय के कप्तान सौरव गांगुली फिटनेस टेस्ट पास करते थे तब उतने ही नंबर लाते थे, जितना की पास होने के लिए जरूरी थे. उन्होंने कहा कि मुझे याद है कि दादा पास करने के लिए जरूरी 12 अंक ही लाते थे.