//

एशिया कप में विराट कोहली को आराम देने पर भड़के पूर्व चयनकर्ता, चयनसमिति पर उठाया अंगुली

क्रिकेट जगत में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाली भिडंत के अलग मायने हैं। ये दो सबसे चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों के बीच क्रिकेट मुकाबला होता है तो दोनों ही देशों की सड़के ठहर सी जाती है। हर कोई इस महा मुकाबले का साक्षी होना चाहता है। अब जब फैंस के लिए तो इस मैच के खास मायने हैं तो खिलाड़ियों के लिए भी इस मैच की कम महत्वता नहीं है।

एशिया कप में विराट कोहली को आराम देने पर भड़के पूर्व चयनकर्ता, चयनसमिति पर उठाया अंगुली 1

भारत-पाकिस्तान मैच का हिस्सा बनना हर खिलाड़ी का होता है सपना

भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों का एक सपना जरूर रहता है कि वो उस मैच का हिस्सा जरूर हो जब दोनों टीमों के बीच आपसी प्रतिस्पर्धा हो। खिलाड़ियों के मन में भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाला मैच का हिस्सा बनना बहुत ही गौरवान्वित अहसास दिलाता है।

एशिया कप में विराट कोहली को आराम देने पर भड़के पूर्व चयनकर्ता, चयनसमिति पर उठाया अंगुली 2
PC_GETTY IMAGES

विराट कोहली को एशिया कप जैसी प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में दे दिया आराम

लेकिन भारतीय क्रिकेट टीम के नियमित कप्तान विराट कोहली को इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट एशिया कप के लिए आराम दे दिया गया जहां भारत और पाकिस्तान की टीमें आमना-सामना करने जा रही हैं। क्या ऐसा नहीं हो सकता था कि विराट कोहली को यही कोई 10-15 दिन का बाद आराम दिया जा सकता था।

एशिया कप में विराट कोहली को आराम देने पर भड़के पूर्व चयनकर्ता, चयनसमिति पर उठाया अंगुली 3
PC_GETTY IMAGES

संदीप पाटिल ने बताया- कोहली को आराम देना कितना सही, कितना गलत

वैसे विराट कोहली ने एशिया कप में होने वाले भारत-पाक मैच से पहले आराम देना हर फैंस के लिए झटका है और इसी बात को लेकर पूर्व चयनकर्ता संदीप पाटिल नें भी अपनी प्रतिक्रिया दी है। संदीप पाटिल ने अपने कॉलम में इस बारे में लिखा कि

एशिया कप में विराट कोहली को आराम देने पर भड़के पूर्व चयनकर्ता, चयनसमिति पर उठाया अंगुली 4

चयन समिति के पूर्व अध्यक्ष के रूप में, मैं इस बात से सहमत हूं कि खिलाड़ियों के वर्कलोड को ध्यान में रखा जाना चाहिए, लेकिन जब भारत-पाकिस्तान मैचों की बात आती है जिसमें भारत के क्रिकेट प्रेमी भावनात्मक रूप से शामिल होते हैं। ये समझना मुश्किल है कि ऐसा निर्णय क्यों लिया गया। असल में, ये सिर्फ प्रशंसक ही नहीं, यहां तक कि दोनों देशों के खिलाड़ी और बोर्ड के अधिकारी और बोर्ड अधिकारी भी इस बड़े मैच के बारे में बहुत दृढ़ता से महसूस करते हैं।”

“लेकिन क्रिकेट का ये खेल भी महान समय के बारे में ही रहता है। महान समय आपको शीर्ष पर रखता है और खराब समय आपको नीचे रखता है। विराट कोहली को आराम देने का फैसला पहले ही लिया जा चुका है लेकिन सवाल है कि चयनकर्ताओं ने एशिया कप के लिए विराट को नहीं चुना जो वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलु सीरीज में भी उन्हें आराम दिया जा सकता था। “

“मै महान कपिल देव की बात करूं तो जिनका वर्कलोड शुरुआती उम्र के साथ शुरू हुआ तो उनके संन्यास लेने तक कभी खत्म ही नहीं हो सका। वो मैचों में ना केवल लंबे समय तक गेंदबाजी करते थे और वो टेस्ट, वनडे और घरेलु क्रिकेट में भी शामिल होते थे। वो ब्रेक के बिना अभ्यास सत्र में भी आखिर तक बल्लेबाजी और गेंदबाजी करते थे।”

क्या क्रिकेट इतना बदल गया है कि आज के भारतीय खिलाड़ी जो इतने फिट और केन्द्रित हैं वो वर्कलोड नहीं ले सकते हैं? मैं विराट कोहली को दोषी नहीं ठहराता लेकिन मेरा सवाल ये है कि बीसीसीआई के लिए अनुबंध के तहत 30 प्लस के खिलाड़ी हैं और वो सभी समान संख्या में मैच खेलते हैं और बराबर का वर्कलोड साझा करते हैं, फिर विराट कोहली क्यों अकेले हैं?”

“अगर आप पूछना चाहते हो कि वेस्टइंडीज या एशिया कप में किस टाइटल को जीतना चाहते हैं तो हमारे खिलाड़ियों, बीसीसीआई और स्पोर्ट्स फैंस को ज्यादा सम्मान और खुशी क्या लाएगा तो इसका जवाब एशिया कप के रूप में बहुत आसान रहेगा और जब पाकिस्तान की तरह एक टीम शामिल हो।

अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आए तो प्लीज इसे लाइक और शेयर करें।