ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय 

ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय

पिछले 2 साल से ईशांत शर्मा की तेज गेंदबाजी में काफी सुधार आया है. भारतीय तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा ने घर व विदेश दोनों ही जगह विकेट चटकाए हैं. भारत अगर ऑस्ट्रेलिया को इतिहास में पहली बार उसी की धरती पर हरा पाया था, तो इसमें ईशांत शर्मा का बड़ा हाथ रहा था. हाल में खेली गई बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में उन्हें ‘मैन ऑफ़ द सीरीज’ भी चुना गया था.

जेसन गिलेस्पी ने की मदद

ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय 1

ईशांत शर्मा ने रणजी मैच के बाद अपने एक इंटरव्यू में अपनी शानदार गेंदबाजी का राज बताते हुए कहा, “भारत में दिक्कत ये है कि यहां हर कोई आपकी परेशानीयां तो बताता है, लेकिन उसका हल नहीं बताता है.

मुझसे बहुत सारे लोगो ने कहा कि मुझे अपनी फुलर डिलीवरी की गति बढ़ाने की जरूरत है, लेकिन किसी ने मुझे नहीं बताया कि यह मुझे कैसे करना है? मैं ससेक्स के लिए काउंटी क्रिकेट खेलने गया था, वहां हमारे कोच जेसन गिलेस्पी ने मुझे इसका हल दिया.

गिलेस्पी ने मुझे बताया कि फुलर डिलीवरी में गति बढ़ाने के लिए, आपकों गेंद सिर्फ हाथ से छोड़नी ही नहीं बल्कि पिच पर हिट भी करनी है. मुझे गेंद को पिच करा बल्लेबाज के घुटने के करीब फेंकनी हैं.

मैंने इसके लिए नेट्स में उनके साथ काफी समय बिताया और उनके निर्देशों का पालन किया और इसका मुझे काफी फायदा भी मिला है.”

धोनी की कप्तानी में नहीं था ज्यादा अनुभव

ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय 2

ईशान शर्मा ने शुरूआती करियर में निरंतरता ना होने का कारण बताते हुए कहा, “धोनी की कप्तानी के दौरान, हममें से कुछ के पास इतना अनुभव नहीं था. इसके अलावा काफी तेज गेंदबाजों को अजमाया जाता था, यह भी एक कारण था कि हम एक तेज गेंदबाजी आक्रमण के रूप में निरंतरता हासिल नहीं कर पा रहे थे.

अब जब विराट ने कप्तानी संभाली हैं, तो हम सभी तेज गेंदबाज काफी अनुभवी हो चुके हैं. जब आप अधिक मैच खेलते हैं और ड्रेसिंग में अधिक समय बिता चुके होते हैं, तो चर्चाएं स्वतंत्र और खुलकर होती है.”

सीनियर कहते थे वर्कहॉर्स

ईशांत शर्मा ने इस विदेशी कोच को दिया अपनी शानदार गेंदबाजी का श्रेय 3

अपने लंबे स्पेल को लेकर उन्होंने कहा, “शुरुआत से, मुझे सभी सीनियर वर्कहॉर्स कहते थे और मुझसे कहते थे कि आपको 20 ओवर फेंकने की जरूरत है और यदि आप 60 रन भी देते हैं और 3 विकेट भी हासिल करते हैं, तो काफी अच्छा होगा. जब आपके दिमाग को पता होता है कि आप 20 ओवर करेंगे, तो आप उसकी तैयारी के लिए लंबे समय तक अभ्यास करते हैं और ऐसे ही यह मेरी भूमिका बन गई.

उन्होंने आगे अपने बयान में कहा, “मैं जहीर भाई या कपिल पाजी से अपनी तुलना नहीं मानता हूं, क्योंकि उन दोनों ने ही देश के लिए बहुत कुछ किया है. फिलहाल मैं अपने अनुभव को युवा गेंदबाजों के साथ साझा कर रहा हूं और चाहता हूं कि आने वाले समय में दिल्ली का एक और तेज गेंदबाज भारत के लिए खेले.”

Related posts