//

ईशांत शर्मा का खुलासा, इस खिलाड़ी से जूते मांगकर खेला था पहला वनडे

ईशांत शर्मा ने अपना वनडे डेब्यू 29 जून 2007 को साउथ अफ्रीका के खिलाफ आयरलैंड की धरती पर किया था. उन्होंने अपने 7 ओवर में 38 रन खर्च किये थे और इस दौरान उन्हें एक भी विकेट हासिल नहीं हुआ था. भारत ने यह मैच 6 विकेट के अंतर से जीत लिया था. अपने डेब्यू वनडे का ईशांत शर्मा ने रोचक किस्सा बताया है.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

जहीर खान से जूते मांगकर खेला था डेब्यू वनडे

ईशांत शर्मा का खुलासा, इस खिलाड़ी से जूते मांगकर खेला था पहला वनडे 1

ईशांत शर्मा ने मयंक अग्रवाल के साथ इन्स्टाग्राम चैट  के दौरान कहा, “मुझे तुरंत कॉल आया कि, मुझे अभी आयरलैंड जाना है और वो भी वनडे सीरीज खेलने. मुझे ये भी बताया गया कि वहां बहुत ठंड है. ऐसे में एमएस धोनी, कार्तिक, उथप्पा और आरपी सिंह पहले ही बीमार पड़ चुके थे क्योंकि वहां का मौसम ही ऐसा था.

ईशांत ने आगे बताया, “मेरा सामान एयरपोर्ट पर अदला बदली हो गया और होटल में इसकी वजह से मुझे दिक्कत भी हुई. जब मैं आयरलैंड पहुंचा, तो मैं अपने सामान का इंतजार कर रहा था. मैंने अपने मैनेजर को कॉल किया. उसने कहा कि सर वो सीधे आपके रूम तक पहुंच जाएगा. फिर मुझे लगा कि वाह, ये तो जबदस्त सुविधा है, क्योंकि इससे पहले हम रणजी में खुद ही सबकुछ लेकर जाते थे.”

सभी अभ्यास कर रहे थे और मैं खड़ा था. इसके बाद राहुल द्रविड़ मेरे पास आए और पूछा, तुम अभ्यास क्यों नहीं कर रहे. मैंने नर्वस होकर कहा वो दरअसल, उन्होंने कहा-क्या बोल रहे हो? 

इसके बाद मैंने कहा कि, राहुल भाई मेरा बैग ही नहीं आया. उन्होंने पूछा, इसका मतलब क्या है? मैंने कहा कि, मैंने फ्लाइट में रखा था लेकिन मुझे मिला नहीं. राहुल द्रविड़ ने कहा कि, तुम अभ्यास कैसे करोगे फिर, मैं फिर चिंता में पड़ गया. अंत में मैंने जहीर भाई से जूते मांगकर अपना पहले वनडे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला.

भारत के लिए खेल चुके हैं 97 टेस्ट

ईशांत शर्मा का खुलासा, इस खिलाड़ी से जूते मांगकर खेला था पहला वनडे 2

बता दें, कि ईशांत शर्मा भारत के लिए अब तक 97 टेस्ट मैच खेल चुके हैं और अपने खेले 97 टेस्ट में 297 विकेट हासिल कर चुके हैं. न्यूजीलैंड दौरे में ईशांत शर्मा को चोट लग गई थी और वह सीरीज का दूसरा टेस्ट मैच नहीं खेल पाए थे. हालांकि फिलहाल उन्हें लॉकडाउन की वजह से अपनी चोट की रिकवरी करने का अच्छा समय मिल गया है.