अर्जुन अवॉर्ड

ईशांत शर्मा मौजूदा भारतीय टेस्ट टीम के सबसे वरिष्ठ गेंदबाज हैं. इशांत अब तक भारत के लिए 96 टेस्ट मैच खेल चुके हैं जो कि किसी भी भारतीय तेज गेंदबाज में सबसे अधिक हैं. इशांत शर्मा ने शुक्रवार को बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाईट टेस्ट के पहले दिन के खेल समाप्त होने के बाद कहा कि भारतीय तेज गेंदबाजों को बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे मैच में गुलाबी गेंद से शुरू में किसी तरह की स्विंग नहीं मिली जिसके बाद उन्होंने सही लेंथ की पहचान करनी पड़ी।

शुरुआत में मदद न मिलने पर बदला अपना प्लान

ईशांत ने अपने करियर में दसवीं बार पारी में पांच विकेट लिए जिससे भारत ने बांग्लादेश को पहली पारी में 106 रन पर समेट दिया। ईशांत ने दिन का खेल समाप्त होने के बाद कहा, ‘लाल गेंद की तुलना में यह काफी भिन्न है। शुरू में हमने सही लेंथ से गेंदबाजी की लेकिन हमें किसी तरह की स्विंग नहीं मिली। इसके बाद हमें अहसास हुआ कि किस लेंथ पर हमें गेंद करनी चाहिए। हमने आपस में बात की और गुलाबी गेंद के लिए सही लेंथ हासिल की।’

वनडे में वापसी पर इशांत शर्मा ने दिया चौकाने वाला बयान, कहा 'अब सिर्फ एक ही फॉर्मेट खेलने पर है ध्यान' 2

किसी और प्रारूप में खेलने कि चिंता नहीं करता

यह 31 वर्षीय गेंदबाज 2016 से वनडे टीम का हिस्सा नहीं है जबकि उन्होंने अपना आखिरी टी20 अंतरराष्ट्रीय 2013 में खेला था। ईशांत ने कहा, ‘हां इससे कभी कभी बुरा लगता है लेकिन मैं जिंदगी के उस मोड़ पर पहुंच गया हूं जहां मैंने इन चीजों को लेकर चिंता करनी छोड़ दी है। मैं अब 31 साल का हूं और अगर मैं किसी प्रारूप में खेलने को लेकर चिंता करता हूं तो फिर मैं अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाऊंगा।’

इशांत शर्मा ने आगे कहा

उन्होंने कहा, ‘मैं केवल खेलना चाहता हूं, चाहे वह रणजी ट्रॉफी हो या भारत की तरफ से। अगर आप खेल का लुत्फ उठाते हो तो आप अच्छा प्रदर्शन भी करोगे। अगर आप छोटी छोटी बातों पर ध्यान देते हो तो कभी सुधार नहीं कर सकते हो।’

Leave a comment