सचिन तेंदुलकर
London: Indian legendary cricketer Sachin Tendulkar during the final match of the 2019 World Cup between New Zealand and England at the Lord's Cricket Stadium in London, England on July 14, 2019. (Photo: Surjeet Yadav/IANS)

टी20 सीरीज अपने नाम करने के बाद भारतीय टीम अब बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने की तैयारी कर रही है. जिसकी शुरुआत 14 नवंबर से इंदौर में हो रही है. इसी सीरीज में भारतीय टीम अपना पहला डे-नाईट टेस्ट खेलेगा वो भी पिंक गेंद से, ऐसे में भारतीय क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने खिलाडियों को अपनी एक राय दी है.

सचिन तेंदुलकर ने दिया अपना गुरुमंत्र

सचिन तेंदुलकर

पिछले कुछ दिनों से पिंक बॉल को लेकर काफी चर्चा हो रही है, जिसके लिए सभी दिग्गज खिलाडी ने अपनी राय दी है ऐसे में अब सचिन तेंदुलकर ने भी अपनी बात सबके सामने रखी हैं.

जैसे-जैसे हालात बदलते हैं, आपको समझना होगा कि गुलाबी गेंद क्या करती है, मैंने कुछ क्रिकेटरों से सुना है जिन्होंने गुलाबी गेंद से खेला है, उन्हें गेंद को देखना मुश्किल होता है, मैं इसे थोड़ा अलग ढंग से देखता हूं.

यह सीम को चुनने के बारे में है. उस प्रकाश में सीम को देखना कभी-कभी मुश्किल हो जाता है. यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि क्या गुलाबी गेंद का सीम दिखाई दे रहा है या नहीं क्योंकि सीम सब कुछ खत्म कर देता है.

सचिन तेंदुलकर ने पिंक गेंद को लेकर भारतीय गेंदबाजों को दी ये ख़ास सलाह 1

अच्छे बल्लेबाज हमेशा कलाई, उंगलियां और सीम देख रहे होते हैं, तो सीम स्थिति दिखाई देनी चाहिए, यह एक महत्वपूर्ण कारण है, आप गेंद की रिलीज को देखते हैं, यह एक तेज गेंदबाज या स्पिनर हो, आपको सीम देखने में सक्षम होना होगा, जिस तरह से सीम जा रहा है, जिस तरह से गेंद हवा में घूम रही है। यह वास्तव में महत्वपूर्ण हो जाता है.

अजिंक्य रहाणे ने बताया इन गेंदबाजों को मिलेगी मदद

अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे ने नई एसजी गुलाबी गेंद के साथ अभ्यास सत्र के बाद अपनी राय दी और बतया कि इन गेंदबाजों को पिंक गेंद से ज्यादा मदद मिलेगी.

“यह अधिक स्विंग कर सकता है, मुझे गेंद पर अधिक रिव्यूज पर यकीन नहीं है क्योंकि स्पिनर गेंद को उसी तरह से स्पिन करेगा, कूकाबुरा और एसजी गेंदों की तुलना में, चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा, लेकिन मुझे भारतीय गेंदबाजों के लिए चुनौतियों का सामना करना नहीं पड़ता है क्योंकि उनका सारा जीवन उन्होंने एसजी गेंद से खेला है.”