बीच सीरीज में निकाले जाने पर काफी दुःख हुआ था: वीरेंद्र सहवाग

Krishna / 08 July 2016

भारत के महान सलामी बल्लेबाज विरेंद्र सहवाग जो अभी कुछ ही दिन पहले रिटायर हुए है, उन्होंने कहा, 2013 में अॉस्ट्रेलिया के खिलाफ बीच सीरीज से बाहर करने से वे काफी आहत थे.

उन्होंने कहा, “चयनकर्ताओं ने मुझे कोई खबर ना देकर बाहर किया, जिससे मै काफी आहत था. मुझे लगता था की, मुझे दों टेस्ट खिलाकर विदाई का मौका देना चाहिए था.”

सहवाग ने कहा, “मै पहले दो टेस्ट मैचों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाया था, और अगर चयनकर्ता तब मुझे कहते कि, आखिरी दों टेस्ट मैच खेलकर तुम संन्यास लेना, तब मै उस पर जरूर विचार करता. और मैदान पर खेलते हुए संन्यास लेता.”

उन्होंने कहा, “तब मुझे किसी ने नहीं बताया था कि, तुम्हें बाहर किया जा रहा है, लेकिन अब मुझे कोई परेशानी नहीं है.”

सहवाग ने आखिरी कुछ साल प्रथम श्रेणी मैचों में मिडल अॉर्डर में बल्लेबाजी की, और सहवाग भी मिडल अॉर्डर में आखिरी समय में भारत के लिए खेलना चाहते थे. लेकिन सहवाग को मौका ही नहीं मिला, और उनसे पुछा तक नहीं गया.

सहवाग ने कहा, “जब मैनें मेरी आखिरी सीरीज खेली, तब सचिन चौथे नंबर पर खेलते थे, और सचिन की जगह तो मै नहीं खेल सकता था, इसलिए मेरे पास सिर्फ छठे नंबर पर खेलने का मौका था.”

लेकिन, सहवाग ने कहा, “टीम से बाहर होने के बाद मेरा प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था, और मै भी हताश हुआ था. मुझे उम्मीद थी कि, मै अच्छा करुंगा लेकिन मै अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहा.”

उन्होंने कहा, “दिल्ली के लिए मेरा प्रदर्शन काफी खराब रहा, और इसलिए मै भारतीय टीम में वापसी भी नहीं कर पाया.”

Related Topics