SW Specials : महज़ एक गेंदबाज़ नहीं बल्कि 2 दशक चले ऐतिहासिक दौर का नाम है जेम्स एंडरसन 1

लंकाशायर के बर्न्ले से तअल्लुक़ रखने वाला एक जेम्स एंडरसन (James Anderson) नाम का 23 साल का एक नौजवान दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित और नामी इंग्लैंड की टीम के लिए अपने टेस्ट करियर की शुरुआत करता है. किसको पता था कि जिम्बाब्वे के खिलाफ़ लंदन के लॉर्ड्स में खेले गए इस मैच में  5 विकेट लेने वाला युवा तेज़ गेंदबाज़ एक दिन दुनिया के महानतम गेंदबाज़ों में अपना नाम दर्ज करा लेगा.

अपने पूरे करियर में कई बार चोटों से भी जूझने के बावजूद एंडरसन (James Anderson) ने न कभी पीछे मुड़कर देखा और न ही कभी परिस्थितियों से हार मानी. मौजूदा समय में वो दुनिया के सार्वकालिक महान गेंदबाज़ों में अपनी एक खास पहचान रखते हैं. इसी सिलसिले में इस आर्टिकल में आज हम नज़र डालेंगे टेस्ट करियर में अपने 18 साल पूरे कर चुके दिग्गज तेज़ गेंदबाज़ के अब तक के यादगार और ऐतिहासिक सफ़र पर.

वो पहला फ़ाइव विकेट-हॉल और फिर महानता के 18 साल

James Anderson

हाल ही में 22 मई यानी बीते कल जेम्स एंडरसन (James Anderson) का टेस्ट करियर पूरे 18 साल हो चुके हैं. जिम्बाब्वे के खिलाफ़ 2003 में इसी दिन खेले गए लंदन टेस्ट से ही उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की थी. उस मैच की पहली पारी में ही युवा एंडरसन ने 16 ओवर में 73 रन देकर 5 विकेट चटकाए थे.

फिर इसके बाद एंडरसन (James Anderson) ने अपने करियर में एक के बाद एक नए मुक़ाम हासिल किए. अभी तक 18 साल के करियर में 160 टेस्ट मैच खेल चुके इस दिग्गज तेज़ गेंदबाज़ ने 26.46 के गेंदबाज़ी औसत के साथ 614 विकेट चटकाए हैं. दुनिया का ऐसा कोई भी दिग्गज बल्लेबाज़ नहीं रहा जिसे एंडरसन ने अपने दौर में परेशान न किया हो.

वक़्त के साथ घातक हुआ जिमी की रफ़्तार में पैनापन और धार

SW Specials : महज़ एक गेंदबाज़ नहीं बल्कि 2 दशक चले ऐतिहासिक दौर का नाम है जेम्स एंडरसन 2

क्रिकेट में एक धारणा शुरु से शाश्वत रही है कि तेज़ गेंदबाज़ चोट के लिए ज़्यादा वलनेरेबल या रिस्की होते हैं. चोटिल एंडरसन भी हुए लेकिन अन्य तेज़ गेंदबाज़ों में तुलना में काफ़ी कम. अक्सर ये देखा गया है कि जैसे जैसे एज फ़ैक्टर आता है उम्र ढलान पर आना शुरु करती हो तो वो रन-अप में कटौती करने लगते हैं, लेकिन जिमी ने अपने रन-अप से कभी भी समझौता नहीं किया.

कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने तो इस बात को स्वीकार भी किया कि बढ़ती उम्र में भी एंडरसन की इस फ़िटनेस का राज़ रनिंग के लिए उनकी प्रतिबद्धिता ही है. जिस दर्जे की लगन और मेहनत से एंडरसन गेंदबाज़ी करते हुए नज़र आते हैं उसकी बराबरी कर पाना कई नौजवान गेंदबाज़ों के लिए भी काफ़ी मुश्किल है.

वर्कलोड मैनेजमेंट का एंडरसन की सफ़लता में बेहद अहम योगदान

SW Specials : महज़ एक गेंदबाज़ नहीं बल्कि 2 दशक चले ऐतिहासिक दौर का नाम है जेम्स एंडरसन 3

इंग्लिश टीम मैनेजमेंट की एक बात जिसकी क्रिकेट एक्सपर्ट्स हमेशा से तारीफ़ करते रहे हैं वो है खिलाड़ियों का साथ उसका वर्कलोड मैनेजमेंट. जेम्स एंडरसन (James Anderson) जैसे टीम के एक बेहद अहम तेज़ गेंदबाज़ पर कभी भी मैनेजमेंट की तरफ़ से ज़्यादा भार नहीं डाला गया. मैनेजमेंट ने उनका बखूबी इस्तेमाल करते हुए उन्हें सीमिंग और स्विंग के मुफ़ीद परिस्थितियों में ही खिलाना बेहतर समझा.

इसके अलावा एंडरसन को नॉटिंघम के एक और सीनियर इंग्लिश तेज़ गेंदबाज़ स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) का शुरु से ही बेहतर साथ मिला. यही वजह थी एंडरसन (James Anderson) पर कभी भी जिम्मेदारियों का ज़्यादा बोझ नहीं बना जिसके चलते वो खुद को इतने लंबे तक इंग्लिश टीम के लिए बरकरार रख सके.

सबसे ज़्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले इकलौते तेज़ गेंदबाज़ हैं जेम्स एंडरसन

SW Specials : महज़ एक गेंदबाज़ नहीं बल्कि 2 दशक चले ऐतिहासिक दौर का नाम है जेम्स एंडरसन 4

अंतरराष्ट्रीय टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ों की चर्चा करें तो ओवरऑल जेम्स एंडरसन (James Anderson) अनिल कुंबले (Anil Kumble) के 619 विकेट के बाद 614 विकेट्स के साथ चौथे नंबर पर हैं. जबकि इस लिस्ट में पहले नंबर पर श्रीलंकाई दिग्गज मुथैया मुरलीधरन (Mutiah Muralitharan) हैं जिनके नाम 800 टेस्ट विकेट दर्ज हैं. वहीं दूसरे नंबर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज शेन वॉर्न (Shane Warne) 708 विकेट्स के साथ काबिज हैं.

इसके अलावा बात करें टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले तेज़ गेंदबाज़ों के बारे में तो इस लिस्ट में जिमी का नाम पहले नंबर पर आता है. 614 विकेट चटका चुके एंडरसन (James Anderson) के आस-पास भी कोई गेंदबाज़ इस लिस्ट में नहीं है. उनके बाद दूसरा नंबर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ग्लैन मैक्ग्रा (Glenn McGrath) का है जिन्होंने अपने टेस्ट करियर में 563 विकेट चटकाए.

इसी लिस्ट पर आगे गौर करें तो पूर्व कैरिबियाई दिग्गज कर्टनी वॉल्श (Courtney Walsh) 619 विकेट के साथ तीसरे नंबर पर हैं. वहीं इंग्लैंड की मौजूदा सीनियर तेज़ गेंदबाज़ स्टुअर्ट ब्रॉड 517 विकेट के साथ चौथे नंबर पर हैं. इस लिस्ट में पांचवां और आखिरी नाम पूर्व दक्षिण अफ़्रीकी टेस्ट दिग्गज डेल स्टेन (Dale Steyn) का है जिनके नाम 439 विकेट हैं. इस लिस्ट में केवल ब्रॉड और एंडरसन ही वो दो गेंदबाज़ हैं जो अभी भी टेस्ट क्रिकेट में सक्रिय हैं.