कैसे जापान ने किया था अंडर 19 विश्वकप में क्वालीफाई, कारण जानकार उड़ जायेंगे होश

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

क्या आपकों पता है कैसे जापान को मिला अंडर-19 विश्व कप 2020 खेलने का मौका? विरोधी टीम पर लगा था लुट का इल्जाम 

क्या आपकों पता है कैसे जापान को मिला अंडर-19 विश्व कप 2020 खेलने का मौका? विरोधी टीम पर लगा था लुट का इल्जाम

प्रियम गर्ग की अगुवाई वाली भारतीय अंडर 19 टीम ने मंगलवार को जापान की टीम को 10 विकेट से हराया. पहली बार वर्ल्ड कप खेल रही जापान की पूरी टीम महज 41 रन पर ऑलआउट हो गई. यह टूर्नामेंट के इतिहास का दूसरा सबसे कम स्कोर है. भारत के लिए रवि बिश्नोई ने 8 ओवर में 5 रन देकर 4 विकेट लिए.उन्हें मैन ऑफ द मैच भी चुना गया. वहीं, कार्तिक त्यागी को तीन और आकाश सिंह को दो विकेट मिले.

श्रीलंका को भी धूल चटा चुकी है भारतीय टीम

क्या आपकों पता है कैसे जापान को मिला अंडर-19 विश्व कप 2020 खेलने का मौका? विरोधी टीम पर लगा था लुट का इल्जाम 1

इस मैच को भारतीय टीम ने 5 ओवर से पहले ही जीतकर इस विश्वकप की अपनी दूसरी जीत दर्ज की है. इससे पहले भारतीय टीम ने श्रीलंका को भी धुल चटा चुक है. अब भारतीय टीम को ग्रुप स्टेज का आखरी मैच 24 जनवरी को न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलना है. भारतीय टीम ने जिस जापान टीम को इतने बुरी तरह से हराया क्या आप जानते हैं कि उसने इस विश्वकप में क्वालीफाई कैसे किया. जापान के क्वालीफाई करने का तरीका बहुत अजीबोगरीब है.

कैसे जापान ने किया था अंडर 19 विश्वकप में क्वालीफाई ?

क्या आपकों पता है कैसे जापान को मिला अंडर-19 विश्व कप 2020 खेलने का मौका? विरोधी टीम पर लगा था लुट का इल्जाम 2

दरअसल, सानो में खेले गए ईस्ट एशिया पैसेफिक रीजनल क्वालीफायर के फाइनल मुकाबले में पापुआ न्यू गिनी ने जापान को वॉक ओवर दे दिया. हुआ यूं कि पापुआ न्यू गिनी ने अपने सभी 11 खिलाड़ियों को अनुशासनहीनता के आरोपों की वजह से निलंबित कर दिया. इस स्थिति में मैच हुआ ही नहीं और जापान की टीम अंकतालिका में पहले पायदान पर पहुंच गई इसी के साथ जापान ने पहले अंडर 19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के लिए क्वालीफाई कर लिया.

पापुआ न्यू गिनी के खिलाड़ियों ने दुकान से की थी चोरी

क्या आपकों पता है कैसे जापान को मिला अंडर-19 विश्व कप 2020 खेलने का मौका? विरोधी टीम पर लगा था लुट का इल्जाम 3

मीडिया रिपोर्ट्स में पहले ये कहा जा रहा था कि खिलाड़ियों के ऊपर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है, क्योंकि वो टीम के कोड ऑफ कंडक्ट पर खरे नहीं उतरे हैं. मगर अब साफ़ हो गया है कि पापुआ न्यू गिनी ने जिन 11 खिलाड़ियों को सस्पेंड किया उनके खिलाफ दूकान से सामान चुराने का आरोप है.

पहली बार आईसीसी का इतना बड़ा टूर्नामेंट खेल रहा है जापान

बता दें कि पापुआ न्यू गिनी ईस्ट एशिया पैसेफिक रीजनल टूर्नामेंट की फेवरिट टीम थी. इस टीम ने पिछले 9 संस्करणों में से 8 में जीत दर्ज की है. गौरतलब है कि जापान 1996 से ही आईसीसी का एसोसिएट सदस्य है. उनके लिए अंडर 19 वर्ल्ड कप में क्वालीफाई करना काफी बड़ी बात है। ये पहली बार है जब जापान की टीम को आईसीसी के किसी बड़े टूर्नामेंट में खेलने का मौक़ा मिला है.

Related posts