टीम इंडिया में अपनी भूमिका को लेकर पहली बार बोले युवा तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह | Sportzwiki

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

टीम इंडिया में अपनी भूमिका को लेकर पहली बार बोले युवा तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह 

टीम इंडिया में अपनी भूमिका को लेकर पहली बार बोले युवा तेज़ गेंदबाज़ जसप्रीत बुमराह

मौजूदा समय में भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे लाजवाब और शानदार तेज गेंदबाजों में से एक गुजरात के जसप्रीत बुमराह आज कल अपनी दमदार गेंदबाज़ी के कारण खूब सुर्खियाँ बटौर रहे हैं.

अभी हाल में ही रणजी ट्राफी के सेमी फाइनल मैच में झारखण्ड के विरुद्ध नागपुर के मैदान पर 6 विकेट लेकर अपनी घरेलू टीम को रणजी ट्राफी के फाइनल में पहुंचाने वाले जसप्रीत बुमराह ने अपने टेस्ट करियर के बारे में बात करते हुए काफी चर्चा की.

यह भी पढ़े : भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलना मेरा सपना : जसप्रीत बुमराह

जसप्रीत बुमराह इएसपीएन क्रिकइन्फो को दिए अपने एक इंटरव्यू में कहा, कि

”मैं अभी खुद को क्रिकेट के सबसे लम्बे प्रारूप टेस्ट क्रिकेट के लिए तैयार कर रहा हूँ, अभी तक मेरा भी ऐसा ही मानना था, कि मैं सिर्फ सीमित ओवर्स के क्रिकेट में ही गेंदबाज़ी कर सकता हूँ. मगर नहीं ऐसा बिलकुल भी नहीं हैं. पिछले तीन सालों से मैं रणजी क्रिकेट और इंडिया ए के लिए खेल रहा हूँ. जहाँ पर मुझे सफलता भी मिली हैं.”

जसप्रीत बुमराह के अनुसार-

”धीरे धीरे टेस्ट क्रिकेट ने भी मुझे अपना लिया हैं. टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाज़ी करना और टी ट्वेंटी में गेंदबाज़ी करने में बहुत ज्यादा अंतर होता हैं. टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाज़ी करने के लिए आपको लगातार संयम और लम्बे लम्बे स्पेल के लिए खुद को तैयार रखना होता हैं.”

जसप्रीत बुमराह ने कहा, कि

”जब से मैंने रणजी ट्राफी में खेलना शुरू किया हैं, तब से तरह तरह के विकेट पर किस प्रकार से गेंदबाज़ी करनी चाहिए यह सीखा हैं. घरेलू क्रिकेट के माध्यम से वाकई में बहुत कुछ सीखने को मिलता हैं. मैं बहुत लकी हूँ, कि आईपीएल में मुंबई इंडियन्स के लिए खेलने के बाद मुझे रणजी में डेब्यू करने का मौका मिला.”

यह भी पढ़े : जैफ थॉमसन की तरह है जसप्रीत बुमराह   

मौजूदा रणजी ट्राफी में जसप्रीत बुमराह गुजरात के लिए खेलते हुए 6 मैचों में 24  विकेट हासिल की हैं. सेमी फाइनल मैच में उन्होंने झारखण्ड के विरुद्ध 6/29 के लाजवाब गेंदबाज़ी करते हुए अपनी टीम को फाइनल में पहुंचाया हैं.

जसप्रीत बुमराह के अनुसार-

”मैं अब खुद को सीमित ओवर्स का गेंदबाज़ नहीं मानता. अब मैं देश के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने को बेताब हूँ. मैं सिर्फ सफ़ेद गेंद से ही नहीं, बल्कि लाल गेंद से भी विश्व क्रिकेट में गेंदबाज़ी कर सकता हूँ.”

Related posts