केविन पीटरसन ने चुनी टेस्ट करियर की बेस्ट 3 पारियां

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

केविन पीटरसन ने बताई अपनी 3 पसंदीदा पारियां, भारत के खिलाफ खेली इस पारी को भी किया शामिल 

केविन पीटरसन ने बताई अपनी 3 पसंदीदा पारियां, भारत के खिलाफ खेली इस पारी को भी किया शामिल

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी केविन पीटरसन ने विश्व क्रिकेट में अपना नाम सुनहरे अक्षरों से लिखवाया. खिलाड़ी के आंकड़े ही उसकी काबीलियत दर्शाती है. टेस्ट हो या वनडे क्रिकेट, खिलाड़ी ने अपनी टीम के लिए तमाम मैच विनिंग पारी खेली. मगर हर खिलाड़ी की तरह पीटरसन की भी कुछ पसंदीदा पारियां हैं, जो उनके लिए सबसे खास रही हैं. अब पीटरसन ने उन तीनों पारियों के बारे में बताया है.

3 पारियां हैं केविन पीटरसन के लिए सबसे खास

कोरोना वायरस के चलते हर कोई घरों में कैद है. इस बीच सभी सेलिब्रिटीज अपने फैंस के साथ जुड़ने के लिए सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं. अब केविन पीटरसन ने रविवार को अपनी क्रिकेट करियर की तीन सबसे पसंदीदा पारियों का जिक्र किया.

असल में, ट्विटर पर क्रिकेट वाह ने केविन को टैग करते हुए लिखा- आप  2012-13 में मुंबई में भारत के खिलाफ खेली गई  186 रनों की पारी का मूल्यांकन कहां करेंगे? आपने ऐसे कई नॉकआउट मैच भी खेले हैं जो न केवल मैच के परिणाम को बदलते थे, बल्कि सीरीज को भी पटल देते थे

. इसपर पीटरसन ने जवाब देते हुए लिखा- श्रीलंका के खिलाफ खेलते वक्त इस पारी में मुझे लंबे वक्त तक विकेट पर खड़े रहने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नजर नहीं आ रहा था.

केविन पीटरसन ने किया तीन पसंदीदा पारियों का जिक्र

केविन पीटरसन ने इस दौरान अपने क्रिकेट करियर की तीन मनपसंद पारियां बताईं, इसमें एक श्रीलंका के खिलाफ 151, वानखेड़े 186, ओवल 158. भारत और इंग्लैंड के बीच 2012-13 टेस्ट सीरीज़ में दूसरे टेस्ट के बारे में बात करे हैं पीटरसन ने.

जिसे इंग्लैंड ने पीटरसन के एक मास्टरक्लास के कारण 10 विकेट से जीता था. अपनी 233 गेंदों की 186 रन की पारी में, बल्लेबाज ने 20 चौके और 4 छक्के लगाए. अपने जवाब में, पीटरसन ने उल्लेख किया कि पारी उनके शीर्ष तीन में कटौती करती है.

आईपीएल 13 पर पीटरसन ने दिया सुझाव

केविन पीटरसन

इंग्लिश खिलाड़ी केविन पीटरसन ने स्टार स्पोर्ट्स चैनल से कहा,

चलिए अब जुलाई-अगस्त भी जल्दी ही आने वाला है. मेरा मानना है कि आईपीएल के इस सीजन को भी कराया जाना चाहिए. विश्व का हर एक खिलाड़ी भी यही चाहता है और वह खेलने के लिए भी बेताब है. खिलाड़ियों और फ्रेंचाइजियों के साथ-साथ आईपीएल उन लोगों के लिए भी बहुत महत्व रखता है, जो इसके पर्दे के पीछे काम करते हैं.

ऐसा कोई तरीका भी ढूंढना चाहिए, जिससे की फ्रेंचाइजी कुछ कमाई कर सके. जैसे कि सभी मैच सिर्फ तीन सुरक्षित स्टेडियम में बगैर दर्शकों के कराए जाएं। इसे तीन या चार हफ्ते में सीमित कर सकते हैं.

Related posts