खलील अहमद के बचपन के कोच ने भारतीय कोचों पर उठाए सवाल

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भरत अरुण और रवि शास्त्री पर उठाया सवाल 

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भरत अरुण और रवि शास्त्री पर उठाया सवाल

खलील अहमद के लिए बांग्लादेश के खिलाफ खेली गई सीरीज कुछ अच्छी नही रही, दिल्ली टी-20 में उन्होंने अपने 4 ओवर में 37 रन खर्च कर दिए थे. राजकोट में खेले दूसरे टी-20 में अपने 4 ओवर की गेंदबाजी में वह कुल 44 रन खर्च कर बैठे थे. सीरीज के तीसरे टी-20 में उन्होंने 4 ओवर में 27 रन खर्च किये थे और उन्हें एक भी हासिल नहीं हुआ.

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भारतीय कोचों पर उठाए सवाल

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भरत अरुण और रवि शास्त्री पर उठाया सवाल 1

जब से खलील अहमद 9 साल के थे, तब से उन्हें गेंदबाजी के गुण सीखा रहे उनके बचपन के कोच इम्तियाज अली खान ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से बात करते हुए अपने एक बयान में कहा, “फिलहाल खलील भारतीय टीम में है, इसलिए मेरा प्रश्न भारतीय कोचों से है, कि वह क्या कर रहे हैं? वह कहीं ना कहीं खलील जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी को मोटिवेट नही कर पा रहे हैं और उससे उसका 100% नहीं निकाल पा रहे हैं.

खलील हो गया है डबल माइंडेड

खलील अहमद

खलील के बचपन के कोच ने आगे अपने बयान में कहा, “मैं हमेशा उससे बोलता हूं, कि शुरूआत में कुछ गेंद स्विंग कराए, लेकिन अभी क्यों ऐसा नही हो रहा है? मैं हमेशा उससे कहता हूं, कि आक्रमक होकर गेंदबाजी करे, लेकिन पता नहीं उसे क्या बाताया जा रहा है, जो फिलहाल ऐसा नही हो रहा हैं. मुझे लगता है कि वह फिलहाल डबल माइंडेड हो चूका हैं.”

हालांकि ऐसा भी नहीं है, कि एक दिन खराब होने से एक गेंदबाज खराब हो जाता है. राजकोट जैसी फ्लैट विकेट पर किसी भी गेंदबाज का खराब दिन हो सकता है. मेरा सलाह उसे यही है, कि वह गेंद को आगे रखे. उसने दूसरे टी-20 में जितनी भी गेंद आगे रखी, उसने उन गेंदों पर रन खर्च नहीं किये.

हां, यह जरुर है, कि अगर आप वेरिएशन करेंगे, तो आप कुछ रन बचा सकते हैं, लेकिन ऐसा हमेशा नही होता है. वेरिएशन करने में गेंद को आपने गलत दिशा में रखा, तो बल्लेबाज आसानी से आपकों शॉट भी लगा सकता है.

टी-20 टीम से नाम वापस लेने की दी थी सलाह

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भरत अरुण और रवि शास्त्री पर उठाया सवाल 2

इम्तियाज अली खान ने आगे अपने बयान में कहा, “जब उसे पहली बार भारत की टी-20 टीम में शामिल किया गया था, तब मैंने उसे कहा था, कि आप अपना नाम वापस ले लो. मैंने उसे सलाह दी थी, कि आप पैसे कमाने के लिए आईपीएल खेले और भारत के लिए वनडे क्रिकेट में ध्यान लगाए. मेरा मानना यह भी है कि वह एक बेहतरीन टेस्ट क्रिकेटर भी हो सकता है.”

युवा खिलाड़ी के लिए अच्छे से ज्यादा बुरा फॉर्मेट है टी-20

खलील अहमद के बचपन के कोच ने भरत अरुण और रवि शास्त्री पर उठाया सवाल 3

खलील अहमद के कोच ने टी-20 फॉर्मेट को बुरा बताते हुए कहा, “मुझे लगता है, कि एक युवा गेंदबाज के लिए टी-20 क्रिकेट अच्छे से ज्यादा बुरा है, क्योंकि इसमें फ्लैट पिचें हैं और काफी छोटी बाउंड्री रहती है, जो एक युवा गेंदबाज के आत्मविश्वास के लिए बुरा होता है. मुझे लगता है, कि पहले वनडे क्रिकेट से खिलाड़ी को आत्मविश्वाश दिलाना चाहिए और इसके बाद ही उन्हें टी-20 क्रिकेट में मौका देना चाहिए.”

Related posts