धोनी

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पहुंची टीम इंडिया के खिलाड़ी लगातार चर्चा बटोर रहे हैं. इसी बीच पूर्व विकेटकीपर और बल्लेबाज किरण मोरे पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की तारीफ करते हुए कुलदीप यादव और रवींद्र जडेजा को लेकर एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने एमएस धोनी को ‘पैकेज’ कहा है. जिसने टीम इंडिया को तूफान से बचा लिया था.

रवींद्र जडेजा और कुलदीप एक समान गेंदबाज नहीं: किरण मोरे

Kuldeep-jadeja

एमएस धोनी की तारीफ में कसीदे पढ़ते हुए पूर्व भारतीय टीम के बल्लेबाज किरण मोरे ने भारतीय महिला कोच डब्ल्यूवी रमन से बात करते हुए कहा, रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव समान गेंदबाज नहीं हैं. भारत के स्पिनर धोनी की गैरमौजूदगी में संघर्ष कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि, एमएस धोनी की मेजबानी में वो लगातार स्पिनरों को गेंद की लाइन-लेंथ और गति के बारे में बताते रहते थे.

”धोनी के दौर में, वह लगातार गेंदबाजों को सलाह देते रहते थे कि, किस गेंद या फिर किस लाइन पर गेंदबाजी करनी है. हालांकि अब टीम में विकेटकीपिंग के तौर पर धोनी नहीं हैं. इस वजह से भारत के स्पिनर संघर्ष का सामना कर रहे हैं. आप देखेंगे कि कुलदीप (यादव) या (रवींद्र) जडेजा अब समान गेंदबाज नहीं रह गए हैं. कप्तान के रूप में विकेटकीपर-बल्लेबाज की खोज करने वाले देशों के पीछे धोनी मेन वजह हैं.”

किरण मोरे ने की एमएस धोनी की तारीफ

kiran more

दरअसल एमएस धोनी ने जब पहली बार भारत को कॉल-अप किया, तब ये माना कि पाकिस्तान, इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका जैसे देश एक अच्छे विकेटकीपर-बल्लेबाज की तलाश क्यों कर रहे हैं. क्योंकि धोनी के कार्यकाल से पता चलता है कि उन्होंने क्या हासिल किया है. उन्होंने दुनिया को बताया कि खेल को पढ़ने के लिए एक विकेटकीपर को मैदान में मजबूत स्थिति में होना क्यों जरूरी है. उन्होंने आगे कहा कि,

” अब दूसरे धोनी को टीम के लिए ढूंढना बड़ा मुश्किल काम है. यदि आप पाकिस्तान, इंग्लैंड या फिर दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में एक विकेटकीपर-बल्लेबाज के साथ कप्तान के रूप में कोशिश कर रहे हैं, तो ऐेसा इसलिए है क्योंकि मैदान में मजबूत स्थिति से खेल को पढ़ने के लिए स्टंप्स के पीछे उन्होंने किसी के होने का लाभ उठाया है.”

विकेटकीपिंग के धुरंधर हैं एमएस धोनी

ms dhoni

किरण मोरे का कहना है कि, टीम में एमएस धोनी को इसलिए लाया गया था ताकि राहुल द्रविड़ को विकेटकीपिंग से आराम दिया जा सके. वक्त-वक्त पर दौरा करना अधिक जोर देता है.

“जिस तरीके का खेल एमएस धोनी ने दिखाया. वो वाकई बेहद खास था.”