सौरव गांगुली

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का पहला सीजन 2008 में खेला गया था, उस समय सौरव गांगुली इस टी20 लीग के स्टार क्रिकेटर थे. गांगुली को कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) फ्रेंचाइजी टीम ने खरीदा था और उन्हें अपना कप्तान बनाया था. गांगुली की कप्तानी में फैन्स को उम्मीद थी कि केकेआर टीम धांसू प्रदर्शन करेगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं और टीम छठे नंबर पर रही थी.

गांगुली को बाहर कर गंभीर को बनाया गया कप्तान

केकेआर बनाम आरसीबी, 2008

गांगुली को टीम मैनेजमेंट के साथ कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. केकेआर के ऑस्ट्रेलियाई कोच जॉन बुकानन ने टीम में मल्टी कैप्टेंसी की पॉलिसी बनाई थी, और इससे टीम को शुरुआती साल में अच्छे नतीजे नहीं मिले थे. लगातार दूसरे सीजन में केकेआर के खराब प्रदर्शन के बाद बुकानन को उनके पद से हटा दिया गया था.

तीसरे सीजन में गांगुली कप्तान के तौर पर खेले, लेकिन टीम छठे नंबर पर रही, इसके बाद 2011 में गौतम गंभीर केकेआर के कप्तान बने और 2012 और 2014 में केकेआर ने खिताब अपने नाम किया था.

वेंकी मैसूर ने बताया गांगुली को रिटेन ना करने का कारण

कोलकाता नाइट राइडर्स ने बताया, 2011 में सौरव गांगुली को टीम से बाहर करने का कारण 1

कोलकाता नाइट राइडर्स ने बताया, 2011 में सौरव गांगुली को टीम से बाहर करने का कारण 2

2011 में कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ जुड़ने वाले वेंकी मैसूर ने कहा कि सौरव गांगुली को रिटेन नहीं करना उनके लिए एक आसान निर्णय था, क्योंकि वह उसी समय टीम में शामिल हुए थे और अनासक्त थे. कोलकाता नाइट राइडर्स के सीईओ वेंकी मैसूर ने यूट्यूब पर अपलोड किए गए ‘द आरके शो’ के एक एपिसोड के दौरान कहा,

“मैने सौरव गांगुली को रिटेन ना करने के फैसले को यह एक बड़े फैसले के रूप में नहीं देखा. अगर मैं तीन साल या दो साल या एक साल के लिए भी संगठन का हिस्सा होता, तो यह मेरे लिए एक कठिन निर्णय हो जाता, लेकिन मेरे लिए ज्यादा मुश्किल फैसला नहीं रहा.”

शाहरुख, जय मेहता और जूही ने किया था फैसले का समर्थन

कोलकाता नाइट राइडर्स ने बताया, 2011 में सौरव गांगुली को टीम से बाहर करने का कारण 3

केकेआर के सीईओ ने खुलासा किया है कि टीम के मालिक शाहरुख, जय मेहता और जूही ने टीम में 3 साल के असफल कार्यकाल के बाद कप्तान सौरव गांगुली को रिटेन नहीं करने के उनके फैसले का समर्थन किया था. उन्होंने कहा,

“मुझे नहीं पता कि यह सही बात है या नहीं, लेकिन आपकों कभी-कभी कठिन निर्णय लेने होते हैं. यह फैसला मेरे लिए इसलिए भी आसान हो गया था, क्योंकि शाहरुख, जय, जूही मेरे द्वारा प्रस्तावित निर्णयों के पीछे खड़े थे.”

vineetarya

cricket is my first and last love, I know cricket only cricket, I love watching cricket because cricket is my passion and my passion is my work my favourite player Mike Hussey and Kl Rahul