बीसीसीआई से नराज हुए ललित मोदी, दिया चौकाने वाला बयान

पूर्व आईपीएल चीफ ललित मोदी को लेकर मामला गर्म होता जा रहा है, ऐसे में केंद्र सरकार अपना बचाव करते हुए ललित मोदी पर शिकंजा कस्ती जा रही है. इसी के मद्देनजर प्रवर्तन निदेशालय यानि(ईडी) ललित मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने की तैयारी में जुट गया है.  

वहीँ अब वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इंडियन प्रीमियर लीग के पूर्व अध्यक्ष और कमीशनर ललित कुमार मोदी के खिलाफ एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट में 16 मानलों में जांच कि बात स्पष्ट कर दी है जिनमे से 15 मामलों में ईडी ने शो कॉज नोटिस जारी कर रखा है.

बीसीसीआई ने 2010 में ललित मोदी के खिलाफ आईपीएल में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया था. बीसीसीआई के अनुसार मोदी ने आईपीएल में हेराफेरी की है.  हालांकि उसके बाद ईडी इस मामले को लेकर ललित मोदी से पूछताछ नहीं कर सकी थी क्योंकि मोदी भारत छोड़कर चले गए थे.  लेकिन अब ईडी ने फेमा के नियमों के उल्लंघन के मद्देनजर मोदी को नोटिस भेजने का निर्णय लिया है.

ललित मोदी ने मामले पर बोलते हुए इंडिया टुडे से बात की. अपने साक्षात्कार में उन्होंने समिति के बारे में उनककी जांच की जानकारी का खुलासा किया. मोदी ने कहा कि जेटली दक्षिण अफ्रीका के लिए बढ़ने की प्रक्रिया का हिस्सा थे. वहीँ श्रीनिवासन और ज्योतिरादित्य सिंधिया भी शामिल थे. मैंने कहा था कि बीसीसीआई जिस तरह से दक्षिण अफ्रीका में वित्तीय खातों को संचालित कर रहा था वह गलत है. यही कारण है कि प्रवर्तन निदेशालय ने जिसके आधार पर बीसीसीआई को 1600 करोड़ के रूप में दंडित किया था.

तब  बी सी सी आई ने दक्षिण अफ्रीका में आर बी आई की मंजूरी के बिना खाते खोले .. तब उन्होंने लिखित रूप में कहा था कि ” यह मई ते करूँगा कि बैंक खाते संचालित कैसे होंगे और कैसे बैंक में पैसे स्थानांतरित किये जायेंगे. और उन्होंने भारतीय रिज़र्व बैंक से मंजूरी न लेने का निर्णय लिया.

ललित मोदी– “मेरे दस्तावेज में यह स्पष्ट रूप से दिखाया गया है कि मेरी इस मामले में कोई भूमिका नहीं रही” .

Related Topics