मुजीब उर रहमान ने इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना गुरु 1

मुजीब उर रहमान, अफगानिस्तान क्रिकेट में अपनी चमक बनाने के लिए सब कुछ करना चाहते हैं. केवल, अपने अधिकांश देशवासियों के विपरीत, वह भाग्यशाली हैं कि उनके पास क्रिकेट बैकग्राउंड है. उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही अफगानिस्तान टीम के लिए शानदार प्रदर्शन किया. जिसका जिम्मेदार उनके परिवार की मजबूत क्रिकेट संस्कृति को ठहराया जा सकता है.

मुजीब को मिला है चाचा का साथ 

मुजीब उर रहमान ने इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना गुरु 2

मुजीब, 2009 में स्कॉटलैंड के खिलाफ अफगानिस्तान के पहले वनडे इंटरनेशनल में खेलने वाले खिलाड़ी नूर अली जार्दन के भतीजे हैं. मुजीब काबुल में अपने घर पर अपने चाचा द्वारा निर्मित नर्सरी में अभ्यास किया करते है. अकादमी ने कई प्रथम श्रेणी के क्रिकेटरों को उभारा है.

मुजीब ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया से कहा, “मैं अपने चाचा को बहुत कम उम्र से गेंदबाजी करता था. और मैंने एक मानसिकता के साथ गेंदबाजी की कि मैं पहले से ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल रहा था. शुरुआत से ही, मुझे अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों को गेंदबाजी करने का मौका मिला.”

मुजीब को नहीं है अंग्रेजी और हिंदी का ज्ञान 

मुजीब उर रहमान ने इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना गुरु 3

मुजीब उर रहमान ने इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना गुरु 4

इस वर्ष की शुरुआत में न्यूजीलैंड में अंडर -19 विश्वकप के बाद से उनकी तेजोमय उन्नति ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटरों की अपेक्षाओं को जानने के लिए बहुत कम समय दिया है. भाषा एक बाधा है. “कोई अंग्रेजी या हिंदी नहीं. केवल पश्तो,” भाषा है जिससे वह अफगानिस्तान के बाहर लोगों के साथ संवाद कर सकते हैं.

आईपीएल के 11वें सीजन में किंग इलेवन पंजाब के साथ एक शानदार शुरुआत, दुनिया भर के टी -20 लीग से आकर्षक अनुबंध लाने की संभावना है. चूंकि वह राष्ट्रीय टीम में टूट गए, उन्हें एक सहायक स्टाफ से निपटना पड़ा, जिसमें वेस्ट इंडियन फिल सिमन्स (मुख्य कोच), दक्षिण अफ़्रीकी चार्ल लेंजवेल्ट (गेंदबाजी सलाहकार) और आयरिशमैन जॉन मूनी (फील्डिंग कोच) हैं. उनको उनकी संचार कौशल को लेकर चिढाए जाने पर वह अपने दुभाषिया को यह बताने के लिए कहता है, “क्रिकेट मेरी भाषा है.”

मैं क्रिकेट की भाषा समझता हूँ

मुजीब उर रहमान ने इस दिग्गज भारतीय खिलाड़ी को बताया अपना गुरु 5

“मुझे अपने क्रिकेट के ज्ञान पर भरोसा है. मैं समझता हूं कि मुझे क्या बताया जा रहा है, भाषा कोई मायने नहीं रखती है. मैं क्रिकेट को समझता हूं.”

अफगानिस्तान में क्रिकेटरों को औपचारिक कोचिंग के लिए मुश्किल से उजागर किया गया है. और मुजीब के प्रारंभिक वर्षों में कई अन्तर्राष्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ खेल खेलने से उनके तरीके में भी बदलाव आया है. इसलिए, स्पिन गेंदबाजी का पारंपरिक रूप कभी भी एक विकल्प नहीं था. मुजीब ने खुलासा किया की, “मैंने अजंता मेंडिस, सुनील नारायण और रविचंद्रन अश्विन को विभिन्न प्रकार से गेंदबाजी करते देखा है. उसने मुझे मोहित किया. मैंने वीडियो देखे और इसके साथ आगे बढ़ा.”

Leave a comment