जसप्रीत बुमराह के मेंटर लसिथ मलिंगा ने बताया, क्यों वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

जसप्रीत बुमराह के मेंटर लसिथ मलिंगा ने बताया, क्यों वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज हैं 

जसप्रीत बुमराह के मेंटर लसिथ मलिंगा ने बताया, क्यों वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज हैं

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह इस समय दुनिया के सबसे बेहतरीन तेज गेंदबाजों में होती है। बल्लेबाजों के लिए मैच की किसी भी परिस्थिति में उनके खिलाफ बड़ा शॉट खेलने में परेशानी होती है। भारतीय टीम को जब भी विकेट की जरूरत होती है तो कप्तान कोहली बुमराह की तरफ गेंद फेंकते हैं। उन्होंने पिछले साल अपना टेस्ट डेब्यू भी किया।

लसिथ मलिंगा का बड़ा योगदान

जसप्रीत बुमराह के मेंटर लसिथ मलिंगा ने बताया, क्यों वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज हैं 1

जसप्रीत बुमराह को दुनिया के सबसे बेहतरीन गेंदबाज बनाने में लसिथ मलिंगा का अहम योगदान है। बुमराह को पहले बार मुंबई इंडियंस ने 2013 में अपनी टीम में शामिल किया था। उस समय उनकी उम्र 19 साल ही थी।

मुंबई इंडियंस के पास उस समय दुनिया के सबसे बेहतरीन गेंदबाजों में शामिल लसिथ मलिंगा थे और उनसे बुमराह का काफी सीखने को मिला। बुमराह के योर्कर किंग बनाने से पहले मलिंगा ही योर्कर के किंग थे।

मलिंगा ने दी प्रतिक्रिया

जसप्रीत बुमराह के मेंटर लसिथ मलिंगा ने बताया, क्यों वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज हैं 2

श्रीलंका और मुंबई इंडियंस के तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने जसप्रीत बुमराह के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया दी है। इसके साथ ही उन्होंने 2013 के बुमराह के बारे में बात की। स्पोर्ट्स्टार को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा

“जब मैं 2013 में पहली बार बूम से मिला, तो वह एक युवा बच्चा था। उसके पास गति थी, लेकिन केवल सटीकता नहीं थी। लेकिन वह हमेशा सीखने को तैयार था और खेल के लिए बेहद प्रतिबद्ध था। उन्होंने जल्द ही महसूस किया कि टी-20 में केवल कुशल खिलाड़ी ही बच सकते हैं। उसने धीमी गेंद, इन-स्विंगर या आउट-स्विंगर जल्द ही सीख लिया। उसके पास वह आत्मविश्वास है और इसीलिए वह अभी नंबर 1 है।”

कोई टक्कर नहीं दे सकता

जसप्रीत बुमराह

लसिथ मलिंगा का मानना है कि जसप्रीत बुमराह को खेल का विश्लेषण करना अभी सीखना है और वह एक साल में ऐसा कर लेते हैं तो कोई उन्हें छू भी नहीं पायेगामुझे नहीं लगता कि उनके पास कोई दबाव है। उन्होंने कहा

“मुझे नहीं लगता कि उनके पास कोई दबाव है। यही कारण है कि वह छह यॉर्कर और एक धीमी गेंद को आसानी से दे सकता है। मुझे उम्मीद है कि अगले एक साल में वह खेल का विश्लेषण करने के तरीके में सुधार करेगा। फिर उसे कोई नहीं हरा सकता। उस पर मेरा भरोसा करो।”

Related posts