महेला जयवर्धने ने निदहास ट्राई सीरीज के फाइनल मैच को लेकर दिया बड़ा बयान, इस टीम को बताया चैंपियन

vineetarya / 18 March 2018

मजबूत भारतीय टीम और बांग्लादेश टीम के बीच आज 18 मार्च रविवार को निदहास ट्राई सीरीज का फाइनल मैच खेला जाना है.

आपकों बता दे, कि भारत और बांग्लादेश की टीम निदहास ट्राई सीरीज में दो बार पहले भीड़ चुकी है और दोनों बार भारतीय टीम ने ही मैच जीता है.

भारतीय टीम और बांग्लादेश की टीम के बीच होने वाले निदहास ट्राई सीरीज के फाइनल को लेकर श्रीलंकाई टीम के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने ने एक काँलम लिखा है. जिसमे उन्होंने निदहास ट्राई सीरीज को लेकर कई रोचक बाते कही है.

श्रीलंकाई समर्थकों को हुई है निराशा 

श्रीलंकाई टीम के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने ने अपने काँलम पर लिखा, “मजबूत भारत के खिलाफ ट्राई सीरीज का पहला मैच में जीतने के बाद श्रीलंकाई टीम के फाइनल से बाहर होने पर स्थानीय दर्शकों को निराशा हुई है. श्रीलंका के समर्थक उम्मीद कर रहे थे कि हमारी टीम फाइनल में जायेगी, लेकिन ऐसा नहीं हो पाया. वैसे देखा जाए तो श्रीलंका की टीम तीन मैच में हार के बाद इसकी हक़दार भी नहीं थी.

भारत ने पहला मैच हराने के बाद शानदार खेल दिखाया 

श्रीलंकाई टीम के पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने ने अपने काँलम पर आगे लिखा, “वही भारत की बात करू तो उसने पहले मैच हारने के बाद शानदार खेल दिखाया है. शुक्रवार को खेला गया श्रीलंका-बांग्लादेश मैच भले ही अभद्र घटना के चलते चर्चा में हो, लेकिन मैं इसके बावजूद कहूँगा, कि म्ह्मुदुल्ला ने शानदार पारी खेली और 18 गेंदों पर 43 रन बनाकर अपनी टीम को जीत दिलाई.”

बांग्लादेश के खिलाड़ियों को मैदान छोड़ने की धमकी नहीं देनी चाहिए थी

श्रीलंका-बांग्लादेश मैच में हुए विवाद को लेकर महेला जयवर्धने ने कहा, “मैं मानता हूं कि अंपायर से मैच में गलती हुई थी, वह नो बाल थी, लेकिन बांग्लादेश के खिलाड़ियों को मैदान छोड़ने की धमकी नहीं देनी चाहिए थी. एक क्रिकेट फैन के तौर पर हम ऐसा मैदान पर कभी नहीं देखना चाहते है.

अगर इस मैच से विवाद को हटा दिया जाए तो कुल मिलाकर यह एक बहुत शानदार मैच था. कुसल परेरा और थिसारा परेरा ने अच्छी पारियां खेली और उसके जवाब में बांग्लादेश के तमीम इक़बाल, रहीम, म्ह्मुदुल्ला ने भी शानदार पारियां खेली.”

विवादों के कारण फाइनल मैच रोचक बन गया 

जयवर्धने ने आगे लिखा, “मुझे लगता है कि इन सारें विवादों ने रविवार को फाइनल मैच रोचक बना दिया है, क्योंकि बांग्लादेश टीम के पास खोने के लिए कुछ भी नहीं है और भारत के खिलाफ उसके पास पाने के लिए सबकुछ है. वे लीग मुकाबलों में दो हार के बावजूद किसी दबाव के मुकाबले का लुफ्त उठा सकते है. अंत में मायने यही रखता कि कौन सी टीम दबाव को सबसे अच्छे से संभालता है