भारत-दक्षिण अफ्रीका वनडे सीरीज रद्द होने के बीच ममता बनर्जी हुई सौरव गांगुली से खफा, सुनाई ये बात 1

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेली जाने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज को लेकर बीसीसीआई ने एक बड़ा फैसला किया। पूरा जगत इन दिनों तो कोरोना वायरस से परेशान है और इस कोरोना वायरस के कहर से हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है इसी बीच बीसीसीआई ने बड़ा फैसला लेते हुए भारत और दक्षिण अफ्रीका की सीरीज को रद्द कर दिया है।

भारत-दक्षिण अफ्रीका सीरीज को भी बीसीसीआई ने किया रद्द

बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली एंड कंपनी ने शुक्रवार को कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए सोच-विचार के बाद ठोस कदम उठाकर फिलहाल के लिए इस वनडे सीरीज को रद्द करने का फैसला किया है।

टीम इंडिया

इस वनडे सीरीज के साथ ही बीसीसीआई ने आईपीएल को भी 15 अप्रेल तक टाल दिया है। कोरोना वायरस की चपेट में इन दिनों पूरा संसार आ चुका है जो हर दिन के साथ लगातार बढ़ता जा रहा है। इसी कारण से बीसीसीआई को ये फैसला लेना पड़ा।

कोलकाता मैच के रद्द की जानकारी नहीं देने से ममता बनर्जी हैं सौरव गांगुली से नाराज

भारत और दक्षिण अफ्रीका सीरीज के रद्द किए जाने के बाद बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बीसीसीआई अध्यक्ष और बंगाल क्रिकेट संघ के पूर्व अध्यक्ष सौरव गांगुली से नाराज हो गई है। ममता बनर्जी ने इसके बाद अपनी नाराजगी को भी पूरी तरह से आगे आकर जाहिर किया।

भारत-दक्षिण अफ्रीका वनडे सीरीज रद्द होने के बीच ममता बनर्जी हुई सौरव गांगुली से खफा, सुनाई ये बात 2

दरअसल भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेली जाने वाली इस वनडे सीरीज का तीसरा और अंतिम वनडे मैच 18 मार्च को कोलकाता के ईडन गार्डन में प्रस्तावित था। लेकिन ममता बनर्जी का ये मानना है कि सौरव गांगुली को इस रद्द के बारे में कुछ तो बताना चाहिए था।

ममता बनर्जी ने कहा, कम से कम रद्द की जानकारी तो देनी बनती थी

ममता बनर्जी के तरफ से कहा गया कि “सौरव के साथ सबकुछ ठीक था। लेकिन उन्हें हमें एक शब्द में बताना चाहिए था और कुछ नहीं। जब मैच कोलकाता में होना था तो कम से कम कोलकाता पुलिस को सूचित किया जाना चाहिए था।”

भारत-दक्षिण अफ्रीका वनडे सीरीज रद्द होने के बीच ममता बनर्जी हुई सौरव गांगुली से खफा, सुनाई ये बात 3

“मैं इसे उचित सम्मान के साथ कह रही हूं। राज्य के मुख्य सचिव या गृह सचिव या पुलिस आयुक्त या सरकार के किसी भी अन्य व्यक्ति को सूचित क्यों नहीं किया जाएगा? अगर आप निर्णय लेने के बाद हमें सूचित करते हैं तो ये कैसा है? हम आपको मैच रोकने के लिए नहीं कर रहे हैं। लेकिन आपने इस स्थिति में क्या किया होगा?”