गुमनामी में जी रहे धोनी के इस चहेते खिलाड़ी की हो सकती है टीम इंडिया में वापसी, 211 की स्ट्राइक रेट से ठोका अर्धशतक
गुमनामी में जी रहे धोनी के इस चहेते खिलाड़ी की हो सकती है टीम इंडिया में वापसी, 211 की स्ट्राइक रेट से ठोका अर्धशतक

IPL की लोकप्रियता तो देखते हुए कई टी20 लीग आ चुकी है, हालांकि आईपीएल की तरह तो कोई भी अबतक मशहूर नहीं पाया है। लेकिन इसके बावजूद खिलाड़ी उन लीगों में हिस्सा लेते हैं और अपने प्रदर्शन से चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ कर्नाटक में खेले जा रहे महाराजा ट्रॉफी में रविवार को खेले गये एक मुकाबले के दौरान देखा गया। जहां भारत का एक खिलाड़ी जो 2 साल से ही टीम से बाहर चल रहा है इस लीग में विस्फोटक बल्लेबाजी करते हुए न केवल अर्धशतकीय पारी खेली बल्कि टीम के जीत में महत्वपूर्ण योगदान भी दिया।

महाराजा ट्रॉफी में बरपाया कहर

Gulbarga Mystics
Gulbarga Mystics

टीम इंडिया से 2 साल से बाहर चल रहे मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज मनीष पांडे (Manish Pandey) इन दिनों कर्नाटक में खेले जा रहे महाराज ट्रॉफी में धमाल मचा रहे हैं। उन्होंने रविवार को खेले गये मुकाबले में गुलबर्गा मिस्टीक्स की तरफ से पांचवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने धमाकेदार पारी खेली। मैसूर वारियर्स के गेंदबाजों को अपने निशाने पर लेते हुए उन्होंने 3 चौके और 4 छक्को की मदद से 27 गेंदों में 57 रन की नाबाद पारी खेली, इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 211 था। इस मुकाबले में मनीष पांडे (Manish Pandey) के बल्ले से कप्तानी पारी निकली, जिसने उन्हें इस मुकाबले का प्लेयर ऑफ द मैच भी बनाया।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था आखिरी मुकाबला

Manish Pandey
Manish Pandey

मनीष पांडे (Manish Pandey) पिछले 2 साल से ही भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्होंने अपना आखिरी टी20 मुकाबला ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ साल 2020 में खेला था। हालांकि उस मुकाबले में वो कुछ खास कमाल करने में कामयाब नहीं हुए थे लेकिन उसके बाद से उन्हें दोबारा मौका ही नहीं दिया गया और वो 2020 से लगातार ही नजरअंदाज हो रहे हैं।

महाराजा ट्रॉफी में खेले गये उनकी कप्तानी पारी ने एक बार फिर से उन्हें सुर्खियों में लाकर खड़ा कर दिया है। इस लीग में उनके बल्ले से अबतक 4 अर्धशतक निकल चुके हैं और 9 मुकाबलों की 7 पारियों में उन्होंने 291 रन ठोके हैं। उनकी मौजूदा प्रदर्शन को देखते हुए यह उम्मीद किया जा सकता है कि सेलेक्टर्स एक बार उनके नाम पर विचार जरुर करेंगे।

धोनी के थे चहेते

Manish Pandey with MS Dhoni
Manish Pandey with MS Dhoni

अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे सीरीज के तीसरे और आखिरी मुकाबले में मनीष पांडे (Manish Pandey) ने अपना डेब्यू किया था। अपने डेब्यू मुकाबले में ही उन्होंने 71 रन की पारी खेलकर टीम इंडिया में अपनी जगह को सुनिश्चित कर ली थी।

भले ही मनीष पांडे (Manish Pandey) ने रहाणे की कप्तानी में डेब्यू किया हो लेकिन एम एस धोनी की कप्तानी में उन्होंने साल 2016 से 2018 , इन दो सालो में भारत के लिए सर्वाधिक (12) मुकाबले खेले, इस दौरान उनके बल्ले से 1 शतक भी निकला था। भले ही वो मौजूदा समय में टीम इंडिया से बाहर चल रहे हैं लेकिन महाराजा ट्रॉफी के दौरान उन्होंने यह तो बता दिया है कि उनके भीतर क्रिकेट अभी भी जिंदा है।

One reply on “गुमनामी में जी रहे धोनी के इस चहेते खिलाड़ी की हो सकती है टीम इंडिया में वापसी, 211 की स्ट्राइक रेट से ठोका अर्धशतक”

Comments are closed.