in ,

शर्मनाक: 2017-18 घरेलू सत्र में 2253 रन बनाने वाले इस खिलाड़ी ने आईपीएल में बनाये है 9 मैचों में महज 118 रन

आईपीएल 2018 में मयंक अग्रवाल जिन्हें इस बार किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने बड़ी उम्मीदों के साथ खरीदा था, लेकिन इन्होंने अभी तक बेहद खराब प्रदर्शन किया और पंजाब को निराशा ही हाथ लगी है। याद हो कि इन्होंने घरेलू क्रिकेट में 2017-18 में रिकॉर्ड तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 2253 रन बनाये थे।

इंडियन प्रीमियर लीग के 11 वें सीजन में इन्हें बैंगलोर में हुई नीलामी में प्रीति जिंटा की मालिकाना वाली किंग्स इलेवन पंजाब ने 1 करोड़ में खरीदा था लेकिन इन्होंने अभी तक 9 मैच खेलते हुए बहुत ही खराब प्रदर्शन करते हुए महज 118 रन बनाये है जिसमें इनका बल्लेबाजी औसत 14.75 है, जो कि इनके लिए एक शर्मनाक है।

गौरतलब हो कि इन्होंने इस साल अपने नाम एक बहुत बड़ा रिकॉर्ड बनाया था जो विराट कोहली या धोनी जैसे दिग्गज खिलाड़ी भी नहीं बना पाए थे। भारत के एक सीजन में इन्होंने सचिन रमेश तेंदुलकर के बाद इन्होंने प्रथम श्रेणी, लिस्ट ए और टी20 क्रिकेट में 2253 रन बनाये है। इनके अलावा ख़ास बात यह है अगर ये इस सीजन के दौरान 46 रन और बना देते तो सचिन का भी रिकॉर्ड तोड़ देते लेकिन ऐसा नहीं हो पाया।

अग्रवाल की इस शानदार फॉर्म के कारण प्रीति जिंटा और किंग्स इलेवन पंजाब की टीम मैनेजमेंट ने यही सोचा कि ये जिस तरह से घरेलू क्रिकेट में खेले है वही अब यहाँ भी ऐसा ही जमकर प्रदर्शन करेंगे किन्तु कहते है न “ऊँची दुकान फीके पकवान” वही बात हुई और अब तक 15 के औसत से भी रन नहीं बना पा रहे है।

टीम को अभी भी है इनके फॉर्म में आने की उम्मीद

इस सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम ने अभी तक 9 मुकाबले खेले है जिसमें 6 में जीत हासिल की है तो 3 में उन्हें हार भी झेलनी पड़ी है। इस दौरान ख़ास बात यह है इन्हें हर मैच में मौके पर मौका दिया जा रहा है, किंतु इनका बल्ला खामोश रहा है। इन्होंने पहले मैच में 7 रन बनाये थे, इसके बाद, 15, 30, 18, 2*, 21, 12, 11 और 2 रन बनाये है जो कि काफी शर्मनाक है।

तो कुल मिलाकर बात यह है कि टीम मैनेजमेंट को अभी भी भरोसा है कि ये अच्छी फॉर्म में आयेंगे लेकिन बल्ले से रन आना तो बिलकुल दिख ही नही रहा है।

कैसे थे और कैसे बदल गए

याद हो कि भारतीय सीजन में इन्होंने लगातार जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए खूब सुर्ख़ियों में आये और सचिन तेंदुलकर का भी रिकॉर्ड तोड़ते-तोड़ते बचे थे, लेकिन किसे पता था कि इस बार भी ये आईपीएल में फ़ैल ही रहेंगे।

हालाँकि बात यह भी यह कि इनका आईपीएल में प्रदर्शन हमेशा से ही इतना खराब रहा है और अब तक 62 मैच खेलते हुए 17.25 की औसत से महज 932 रन बनाये है और अभी 68 रन और की जरुरत है जिसके बाद इनके 1000 रन पूरे होंगे। तो अब देखना यही होगा कि क्या इन्हें आगामी मैचों में भी इस प्रकार से विश्वास दिखाया जाता है या फिर बाहर करके किसी अन्य को मौका दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *