दिनेश कार्तिक के छक्के के आगे मियांदाद का 32 साल पुराना छक्का पड़ा फीका

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

निदहास ट्राफी 2018: अंतिम गेंद पर छक्का लगाते हुए दिनेश कार्तिक ने जावेद मियाँदाद के 32 साल पुराने रिकॉर्ड को किया ध्वस्त 

निदहास ट्राफी 2018: अंतिम गेंद पर छक्का लगाते हुए दिनेश कार्तिक ने जावेद मियाँदाद के 32 साल पुराने रिकॉर्ड को किया ध्वस्त

निदहास ट्रॉफी त्रिकोणीय टी-20 सीरीज का फाइनल मुकाबला 18 मार्च को श्रीलंका के कोलम्बो में खेला गया. यह मुकाबला भारत और बांग्लादेश के बीच हुआ. बांग्लादेश के शानदार प्रदर्शन के बावजूद भी उसे हार का सामना करना पड़ा. अंतिम ओवर की अंतिम बॉल में भारत ने बांग्लादेश के मुंह से मैच को छीन लिया.

कार्तिक ने निभाई अपनी भूमिका

निदहास ट्राफी 2018: अंतिम गेंद पर छक्का लगाते हुए दिनेश कार्तिक ने जावेद मियाँदाद के 32 साल पुराने रिकॉर्ड को किया ध्वस्त 1 

भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाने में सबसे बड़ा हाथ भारत के विकेटकीपर बल्लेबाज़ दिनेश कार्तिक का था. कार्तिक ने ओवर की अंतिम गेंद पर छक्का जड़कर जीत अपने नाम कर ली. ऐसा पहली बार हुआ जब भारत के किसी खिलाड़ी ने मैच में जीत पाने के लिए अंतिम ओवर की अंतिम बॉल में छक्का लगाया हो.

जावेद मियांदाद ने भी दिखाया था कमाल  

निदहास ट्राफी 2018: अंतिम गेंद पर छक्का लगाते हुए दिनेश कार्तिक ने जावेद मियाँदाद के 32 साल पुराने रिकॉर्ड को किया ध्वस्त 2

क्रिकेट इतिहास की बात करें तो दिनेश कार्तिक आखिरी ओवर की आखिरी बॉल में छक्का लगाने वाले दूसरे खिलाड़ी बन गए. इससे पहले 1986 में पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर जावेद मियांदाद ने शारजाह में भारत के खिलाफ यह कारनामा किया था.

भारत और पकिस्तान के बीच खेली जा रही सीरीज के फाइनल मुकाबले में पकिस्तान को जीतने के लिए 4 रनों की आवश्यकता थी. उस समय मियांदाद बल्लेबाजी कर रहे थे. उस वक्त मियांदाद के पास सिर्फ दो विकल्प थे. या तो वह चौका लगाते या छक्का. उन्होंने अपनी टीम को जितने के लिए चेतन शर्मा की बॉल पर छक्का लगाकर एशिया कप अपने नाम कर लिया.

जावेद मियांदाद का रिकॉर्ड पड़ा फीका

निदहास ट्राफी 2018: अंतिम गेंद पर छक्का लगाते हुए दिनेश कार्तिक ने जावेद मियाँदाद के 32 साल पुराने रिकॉर्ड को किया ध्वस्त 3

अब कार्तिक ने ऐसा ही कमाल दिखा कर मियांदाद के छक्के को पीछे छोड़ दिया. निहदास ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में अंतिम ओवर की आखिरी गेंद में भारत को जीतने के लिए 6 रन की आवश्यकता थी. बल्लेबाजी कर रहे दिनेश कार्तिक के पास टीम को जिताने के लिए सिर्फ एक ही विकल्प था. वह विकल्प था अंतिम गेंद में छक्का जड़ना. अंतिम विकल्प को याद में रखते हुए कार्तिक ने सौम्य सरकार की गेंद को एक्स्ट्रा कवर पर खेला. इसी के साथ बांग्लादेश को 4 विकेट से हरा कर जीत का परचम भी फहरा दिया और निदहास ट्राफी कप्तान रोहित शर्मा के हाथो में आ गयी.

भारत को आखिरी 2 ओवर में जीत के लिए 34 रनों की जरुरत थी. ऐसे में दिनेश कार्तिक को बल्लेबाजी के लिए मैदान में उतारा गया. इससे पहले का 18वां ओवर मुस्ताफिजुर रहमान मेडन विकेट ओवर फेंक चुके थे. उस ओवर में बल्लेबाजी कर रहे विजय शंकर एक भी रन बनाने में नाकामयाब हो गए थे. तभी रुबेल हुसैन ने 19वें ओवर में 22 रन लुटाए. इसी के साथ मैच का रुख पलट गया. आखिरी ओवर की अंतिम गेंद पर दिनेश कार्तिक विजेता बनकर लौटे.

Related posts

Leave a Reply