महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती 

महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती

चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल के दूसरे क्वालीफायर में दिल्ली कैपिटल्स को 6 विकेट से हरा दिया है। दिल्ली ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 147 रन बनाये। सीएसके ने 6 गेंद बाकि रहते जीत हासिल कर ली। अब टीम 12 मई को फाइनल में मुंबई इंडियंस से भिड़ेगी। इस मैच में चेन्नई के गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम को जीत दिलाने में मदद की।

टीम में कई अनुभवी खिलाड़ी

महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती 1

चेन्नई सुपर किंग्स की टीम आईपीएल में सबसे अनुभवी टीम मानी जाती है। प्लेइंग इलेवन में खेलने वाले ज्यादातर खिलाड़ी को उम्र 30 साल से अधिक है। टीम के बेहतरीन प्रदर्शन का श्रेय इनके अनुभव को भी दिया जाता है।

इस आईपीएल में महेंद्र सिंह धोनी, फाफ डू प्लेसी, शेन वॉटसन, सुरेश रैना, अंबाती रायडू, केदार जाधव, रविन्द्र जडेजा, हरभजन सिंह, ड्वेन ब्रावो, इमरान ताहिर जैसे सीएसके के खिलाड़ियों की उम्र 30 साल से ज्यादा है।

चुनौती भी होती है

महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती 2

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का मानना है कि अनुभव का जरुर फायदा मिलता है लेकिन यह चुनौतियाँ भी लाती हैं। खिलाड़ियों के सामने फिट रहने की बड़ी चुनौती रहती है। मैच के बाद उन्होंने कहा

“अनुभव मायने रखता है, लेकिन उन्हें 45-50 दिनों तक फिट रहने के लिए कड़ी मेहनत करनी होती है और अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन और गर्म परिस्थितियों में खेलना होता है। हमें खुशी है कि हमें कई चोटें नहीं लगीं और गेंदबाजों को धन्यवाद देना चाहिए क्योंकि उनकी वजह से हम यहाँ हैं।”

सलामी बल्लेबाजों से थी उम्मीद

महेंद्र सिंह धोनी के माना, टीम में अनुभवी खिलाड़ी होने के बावजूद होती है यह चुनौती 3

इस सीजन चेन्नई सुपर किंग्स के सलामी बल्लेबाजों ने काफी निराश किया है। टीम ने पावर प्ले में लगातार विकेट खोये हैं। इसके बावजूद महेंद्र सिंह धोनी को इस महत्वपूर्ण मुकाबले में उनसे उम्मीद थी, हालाँकि, दोनों मैच फिनिश नहीं कर पाए। इस बारे में कप्तान ने कहा

“मैंने सलामी बल्लेबाजों को अधिक रन बनाने के लिए पसंद किया होगा क्योंकि नॉकआउट और 6 से कम की रनरेट से रन चाहिये थे। अगर सलामी बल्लेबाज़ टिके हुए थे और मेहनत करने के बाद मैच फिनिश भी करना चाहिए था।”

Related posts