धोनी के कोच ने कहा कि इससे पहले राष्ट्रीय चयनकर्ता धोनी को पद से हटाते उससे पहले धोनी खुद ही पद से हट गये - SportzWiki Hindi
Connect with us

इंटरव्यूज

धोनी के कोच ने कहा कि इससे पहले राष्ट्रीय चयनकर्ता धोनी को पद से हटाते उससे पहले धोनी खुद ही पद से हट गये

आज चारों तरफ बस एक ही नाम की चर्चा हो रही हैं, वो हैं महेंद्र सिंह धोनी. बुधवार शाम महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे और टी ट्वेंटी टीम की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया. महेंद्र सिंह धोनी अब एक बल्लेबाज़ के तौर पर टीम के साथ जुड़े रहेंगे. यानी जिस धोनी को हम खेल के मैदान पर एक कप्तान के रूप में खेलते देखा करते थे, अब वो ही धोनी बतौर खिलाड़ी मैदान पर चौके और छक्कों की बरसात करते दिखाई देंगे.

अचानक दिए अपने कप्तानी के इस्तीफे से धोनी एक दम से सुर्ख़ियों का कारण बन गये हैं. क्रिकेट के बाजार में हर तरफ इसी बात पर चर्चा की जा रही हैं, कि महेंद्र सिंह धोनी का कप्तानी छोड़ने का फैसला सही हैं या नहीं.

यह भी पढ़े : ये हैं वो तीन बड़े खिलाड़ी जो बन सकते हैं महेंद्र सिंह धोनी की जगह एकदिवसीय क्रिकेट टीम के नये भारतीय कप्तान

महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी छोड़ने पर उनके कोच चंचल भट्टाचार्य ने भी अपनी प्रतिकिर्या व्यक्त करते हुए अपनी राय दी. गुरूवार, 5 जनवरी को रांची में टाइम्स ऑफ इंडिया को अपना इंटरव्यू देते हुए धोनी के कोच चंचल भट्टाचार्य ने कहा, कि

”मेरे हिसाब से महेंद्र सिंह धोनी ने एक दम सही समय पर कप्तानी छोड़ी हैं. मैं धोनी के कप्तानी छोड़ने के फैसलें को सही मानता हूँ. इससे पहले भारतीय क्रिकेट टीम के राष्ट्रीय चयनकर्ता महेंद्र सिंह धोनी को कप्तानी के पद से हटाते, उससे पहले खुद धोनी ने इस्तीफा देकर सभी को चौंका दिया. मेरे लिए यह कोई सरप्राइज नहीं रहा.”

यह भी पढ़े : कही महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी छोड़ने का कारण यह तो नहीं

जब धोनी के कोच से यह सवाल किया गया, कि इंग्लैंड के विरुद्ध वनडे श्रृंखला से ठीक पहले कप्तानी छोड़ना कितना सही हैं, तो इस पर चंचल भट्टाचार्य ने कहा, कि

”यह बिलकुल भी गलत निर्णय नहीं हैं और मैं धोनी के इस फैसले के साथ हूँ. इससे पहले उनके रास्ते में कोई आता, उससे पहले ही धोनी रास्ते से हट गये.”

यह भी पढ़े : महेंद्र सिंह धोनी के कप्तानी छोड़ने के बाद हैरान क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर ने धोनी के लिए ये क्या कहा….

धोनी के खेल के प्रति जूनून के बारे में बात करते हुए चंचल भट्टाचार्य ने कहा, कि

”जब मैं धोनी से पहले बार मिला, तब से ही उनके अन्दर रनों की और खेल की भूख साफ़ दिखाई देती थी. कोचिंग के दौरान एम.एस.धोनी एक भी दिन का ब्रेक नहीं लेते थे. खेल के प्रति धोनी का वो ही जोश, उत्साह और जूनून मुझे आज भी वैसा ही दिखाई देते हैं, जैसा कि 12 साल पहले हुआ करता था.”

अंत में चंचल भट्टाचार्य ने कहा, कि

”एकदिवसीय क्रिकेट में लगातार खेलते रहने के लिए फिटनेस लेवल को कायम रखना एक बहुत बड़ी चुनौती होती हैं. महेंद्र सिंह धोनी में फिटनेस की कोई कमी नहीं हैं. यही एक बड़ी वजह हैं, कि धोनी लगातार इतने लम्बे समय तक देश के लिए क्रिकेट खेलते रहे.”

Must See