महेंद्र सिंह धोनी चेन्नई सुपर किंग्स की सफलता की वजह

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम 

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम

चेन्नई सुपर किंग्स आईपीएल की सबसे सफल टीमों में गिनी जाती है। टीम ने अभी तक 10 सीजन में हिस्सा लिया है और सभी बार प्लेऑफ में पहुंची है। सभी सीजन में महेंद्र सिंह धोनी ही टीम के कप्तान रहे हैं। फ्रेंचाइजी ने तीन बार विजेता की ट्रॉफी भी उठाई है। उन्होंने सबसे ज्यादा 8 बार टूर्नामेंट का फाइनल भी खेला है।

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम 1

दो साल का बैन लगा था

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम 2

चेन्नई सुपर किंग्स पर आईपीएल 2015 के बाद दो सालों का बैन लगा दिया गया था। टीम आईपीएल 2016 और 2017 में हिस्सा नहीं ले पाई थी। इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स की टीम के लिए खेल रहे थे।

2018 में वापसी करते हुए टीम ने विजेता की ट्रॉफी अपने नाम की। आईपीएल 2019 में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा था और फाइनल तक पहुंचे थे। हालाँकि, करीबी मुकाबले में मुंबई के हाथों एक रनों की हार मिली थी।

महेंद्र सिंह धोनी को दिया श्रेय

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम 3

चेन्नई सुपर किंग्स के मालिक एन श्रीनिवासन ने टीम की बेहतरीन वापसी और प्रदर्शन के श्रेय महेंद्र सिंह धोनी को दिया है। आईआईटी मद्रास एवं ‘एम्प्लॉयर्स फेडरेशन ऑफ सदर्न इंडिया’ के कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने कहा

“चेन्नई सुपरकिंग्स दो साल के प्रतिबंध के कारण बुरे दौर से गुजर रही थी लेकिन टीम ने 2018 में कमाल की वापसी की। किसी का भी बुरा समय आ सकता है लेकिन धोनी और टीम के खिलाड़ियों ने दृढ़ संकल्प की बदौलत इस बुरे समय का समाना किया जिससे वे विजेता बने।”

उस समय के बारे में बताया

एन श्रीनिवासन ने बताया चेन्नई सुपर किंग्स क्यों है आईपीएल की सबसे सफल टीम 4

एन श्रीवास्तव ने टीम पर बैन लगने के समय को याद करते हुए बात की। उन्होंने बताया कि झुकने की जगह उन्होंने विरोध करने का रास्ता चुना था।

“हमें नीचे रखा गया। यह एक ऐसा अवसर भी था जब एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मुझसे संपर्क किया और कुछ अन्य अधिकारियों के संदेश पर पारित किया कि मुझे पद (बीसीसीआई अध्यक्ष) छोड़ने के लिए कहें और कुछ नहीं होगा। लेकिन तब हमने विरोध करना चुना। यह मेरी स्वाभाविक प्रवृत्ति थी कि मैं कभी भी इन दबावों में पीछे नहीं हटता।”

Related posts