आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी 

आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी

भारतीय पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी लम्बे समय से क्रिकेट के मैदान से दूर हैं. धोनी ने अपना आखरी मुकाबला न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्वकप 2019 के सेमीफाइनल में खेला था. इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी को भारतीय ड्रेसिंग में साऊथ अफ्रीका तथा भारत के खिलाफ राँची के मैदान में देखा था.

आईपीएल 2020 से पहले देवरी मंदिर पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी

आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी 1

महेंद्र सिंह धोनी मंगलवार को रांची के देवरी मंदिर में पहुंचे और पूजा अर्चना की. वे यहां अपने अपने एक दोस्त के साथ पहुंचे. आईपीएल 2020 के पहले मंदिर में उन्होनें पूजा कर सफलताओं के लिए प्रार्थना की. इस दौरान धोनी को देखने के लिए मंदिर के पास लोगों की भीड़ जुट गई.

इस मंदिर से अपार श्रद्धा रखते हैं धोनी

आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी 2

दरअसल भारतीय पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की इस मंदिर के प्रति अपार श्रद्धा है और जब भी उन्हें वक्त मिलता है वह यहां पूजा करने जरूर आते हैं. इससे पहले भी कई बार धोनी इस मंदिर में माथा टेकने पहुंचे हैं. गौरतलब है कि इस मंदिर में इंडियन क्रिकेट टीम के हरभजन सिंह, शिखर धवन व उनकी पत्नी आयशा और लालू प्रसाद यादव भी दर्शन के लिए आ चुके हैं. ऐसे में इस मंदिर की लोकप्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है.

जुलाई 2019 के बाद से धोनी ने नहीं खेला क्रिकेट

आईपीएल 2020 से पहले इस मंदिर में प्रार्थना करने पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी 3

बता दें कि धोनी ने पिछले साल विश्व कप सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से मिली हार के बाद क्रिकेट नहीं खेला है. धोनी के अनुबंध का नवीनीकरण नहीं होना वैसे हैरानी की बात नहीं है, क्योंकि उन्होंने नौ जुलाई को विश्व कप सेमीफाइनल के बाद से कोई प्रतिस्पर्धी मैच नहीं खेला. वह क्रिकेट से दूर हैं और अपने भविष्य के बारे में कुछ खुलासा भी नहीं कर रहे.

महेंद्र सिंह धोनी बीसीसीआई के सेन्ट्रल कॉन्ट्रैक्ट से भी हैं बाहर

महेंद्र सिंह धोनी  को गुरूवार को बीसीसीआई के केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों  की सूची से बाहर कर दिया गया, जिससे भारत के पूर्व कप्तान के भविष्य को लेकर एक बार फिर अटकलें तेज हो गई हैं. बीसीसीआई ने अक्टूबर 2019 से सितंबर 2020 तक के लिये केंद्रीय अनुबंधों का ऐलान किया.

Related posts