भारत की इंग्लैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीत के पीछे था महेंद्र सिंह धोनी का हाथ? | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भारत की इंग्लैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीत के पीछे था महेंद्र सिंह धोनी का हाथ? 

भारत की इंग्लैंड के खिलाफ ऐतिहासिक जीत के पीछे था महेंद्र सिंह धोनी का हाथ?

भारतीय टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए इंग्लैंड के खिलाफ वानखेड़े के ऐतिहासिक मैदान पर आठ लम्बे सालों बाद सीरीज जीती, और इस सीरीज जीत का श्रेय पूरी भारतीय टीम को जाता है.

पहले मैच में एक समय हार के करीब खड़ी टीम इंडिया ने रविन्द्र जडेजा के शानदार बल्लेबाज़ी के कारण मैच बचा लिया. राजकोट में बाल बाल बचने के बाद टीम इंडिया ने दुसरे टेस्ट मैच में विशाखापत्तनम में मैच में बेहतरीन खेल दिखाया और मैच जीत कर सीरीज में 1-0 कि बढ़त हासिल की.

यह भी पढ़े : PHOTO: युवराज की शादी में धोनी द्वारा हेजल कों दिये गये गिफ्ट की तस्वीर हो रही है वायरल

विशाखापत्तनम में जीत के सूत्र रहे थे, नंबर एक गेंदबाज़ रविचंद्रन अश्विन, जिन्होंने वाईजैग पर आठ विकेट लिए और मैच में टीम इंडिया को जीत दिलाई.

अगला टेस्ट मैच खेला गया मोहाली के मैदान पर खेला गया और वहा भी स्पिन का जादू चला और इस बार रविन्द्र जडेजा ने मैच में पांच विकेट लेकर मेहमान टीम की कमर तोड़ दी. चौथा मैच सोमवार को पहले घंटे के अन्दर ख़त्म हो गया और टीम इंडिया ने एक पारी और 36 रनों से एक यादगार जीत हासिल की.

इस मैच में अश्विन ने कमाल की गेंदबाज़ी की और मैच की दोनों पारियों में छह-छह विकेट लेकर 12 विकेट हासिल किए और उनकी गेंदबाज़ी एक अहम कारण है, जिसके कारण टीम इंडिया ने सीरीज एक मैच रहते ही जीत ली.

लेकिन क्या आप जानते है, कि इन दोनों स्पिन ऑल राउंडर को भारतीय टीम के लिए तैयार किसने किया था? इन दोनों मैच विनर को तैयार करने में सबसे बड़ा योगदान अगर किसी का रहा है, तो वो है भारतीय टीम के सिमित ओवर के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी.

धोनी ने आईपीएल में ही अश्विन की काबिलियत परख ली थी, और जैसा कि कहा जाता है, कि हीरे कि परख तो जोहरी को ही होती है, और अब अगर जोहरी माहि जैसा कोई हो, तो हीरा तो अश्विन जैसा होना लाज़मी था.

इस सीरीज में मिली जीत के बाद भारत के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने कहा था, कि सीरीज जीत में अश्विन ने 60 फीसदी भूमिका निभाई है.

यह भी पढ़े : बतौर कप्तान जो धोनी, सचिन और गावस्कर नहीं कर पायें वो कर दिखाया विराट कोहली ने

ऐसे में जैसा अक्सर देखा जाता है, कि किसी बड़ी उपलब्धि के बाद धोनी स्पॉट लाइट युवा खिलाड़ियों के लिए छोड़ देते है, कुछ वैसा ही इस मामले में देखने को मिला. धोनी का ज़िक्र कही नहीं हुआ, लेकिन असल में इस जीत का कुछ श्रेय तो धोनी को भी जाना चाहिए, क्यूंकि अगर धोनी इन खिलाड़ियों पर इतना भरोसा नहीं दिखाते तो, शायद टीम इंडिया आज भी अनिल कुंबले और हरभजन सिंह का विकल्प ढूंढ रहा होता.

Related posts