खुला लगातार खराब प्रदर्शन के बाद शानदार बल्लेबाजी का राज, धोनी ने कर दिया अपनी ख़ास चीज का बलिदान 1

साल 2004 में भारतीय क्रिकेट टीम में विकेटकीपर और बल्लेबाज के रूप में डेब्यू करने वाले एमएस धोनी ने अपनी पहचान एक सफल कप्तान के रूप में बनाई। वो हमेशा अपनी फिटनेस पर जोर देते हैं। उनकी सफलता का यही एक राज भी है।

पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने इस साल फिट रहने के लिए अपनी पंसदीदा डिश को ना कर दिया। इस बात का खुलासा खुद पूर्व कप्तान एमएस धोनी ने एक कार्यक्रम के दौरान मुंबई में किया।

 

धोनी ने छोड़ा फेवरेट खाना

खुला लगातार खराब प्रदर्शन के बाद शानदार बल्लेबाजी का राज, धोनी ने कर दिया अपनी ख़ास चीज का बलिदान 2

पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने इस साल अपनी फिटनेस के लिए अपने फेवरेट खाने को भी छोड़ दिया। धोनी ने कार्यक्रम के दौरान कहा कि करियर के शुरूआती दिनों में बटर,चिकन काफी खाते थे। लेकिन इस समय फिट रहने के लिए उसे छोड़ दिया है। बता दें कि इस धोनी की उम्र 36 साल है और पूरे आईपीएल सीजन में बेहद चुस्त-दुरूस्त देखने को मिले। पुरस्कार समारोह में बोलते हुए धोनी ने कहा कि,

”आपको बदलना होगा। जब हमने करियर शुरूआत की थी तो हमारी खाने की आदत मे काफी परिवर्तन आया था। उस समय मक्खन,चिकन,नान,मिल्कशेक,चॉकलेट और शीतल पेय लेते थे। लेकिन एक बार जब 28 की उम्र छूने के बाद चॉकलेट और मिल्कशेक छोड़ दिया और कुछ साल बाद शीतल पेय भी छूट गया। 2015 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास के बाद केवल स्वस्थ सामग्री और कबाब ही बचे हैं।”

 

रोइंग मशीन ने धोनी को किया काफी फिट

खुला लगातार खराब प्रदर्शन के बाद शानदार बल्लेबाजी का राज, धोनी ने कर दिया अपनी ख़ास चीज का बलिदान 3

पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने अपनी फिटनेस के बारे बात करते हुए कहा कि इस बार रोइंग मशीन ने फिट रहने में काफी मदद की। आईपीएल के दौरान धोनी काफी हिट दिख रहे थे। लोग उनकी फिटनेस के बारे में जानना चाहते थे। कार्यक्रम के दौरान धोनी ने कहा कि, चेन्नई में आईपीएल 11 के दौरान मेरे कमरे में एक रोइंग मशीन थी। मैं नाश्ते से पहले रोइंग शुरू करता हूं।

धोनी ने आईपीएल के दौरान जिम जाना छोड़ दिया था और पूरी तरह से रोइंग मशीन में अपना भरोसा जताया था। इसका फायदा धोनी को मिला और वो शानदार फॉर्म में दिखे।

इंसान के तौर काफी बदलाव हुए

खुला लगातार खराब प्रदर्शन के बाद शानदार बल्लेबाजी का राज, धोनी ने कर दिया अपनी ख़ास चीज का बलिदान 4

चेन्नई सुपरकिंग्स को तीसरी बार खिताब जीताने वाले कप्तान एमएस धोनी अपने अंदर बदलाव का श्रेय बेटी जीवा को दिया। धोनी का मानना है कि उनके अंदर क्रिकेटर के तौर पर कोई बदलाव हुुए हैं या नहीं इसके बारे में नहीं पता है। लेकिन इंसान के तौर पर जरूर बदले हैं।

”मुझे नहीं पता कि एक क्रिकेटर के रूप में मेरे अंदर बदलाव आया है या नहीं। लेकिन एक व्यक्ति के तौर पर जरूर बदलाव आए हैं। क्योंकि बेटी पिता के काफी करीब होती है।”

 

Leave a comment