भारत के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ मुरली कार्तिक ने दी रविचंद्रन अश्विन को चुनौती | Sportzwiki Hindi

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

भारत के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ मुरली कार्तिक ने दी रविचंद्रन अश्विन को चुनौती 

भारत के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ मुरली कार्तिक ने दी रविचंद्रन अश्विन को चुनौती

भारतीय टीम के पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर मुरली कार्तिक ने दुनिया के नंबर वन स्पिन गेंदबाज़ रविचंद्रन अश्विन को लेकर बीच सीरीज में दे दिया हैं एक बहुत बड़ा बयान.

भारत के पूर्व स्पिन गेंदबाज़ मुरली कार्तिक ने दी रविचंद्रन अश्विन को चुनौती 1

क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह चुके मुरली कार्तिक ने आर. अश्विन की मौजूदा टेस्ट श्रृंखला की फॉर्म को देखते हुए  पीटीआई को अपना इंटरव्यू देते हुए कहा, कि-

यह भी पढ़े : भारत बनाम इंग्लैंड : विडियो : कोहली ने खोला अश्विन और एंडरसन विवाद का सच

”मैं इस बात पर बिलकुल भी चर्चा नहीं करना चाहता, कि आर. अश्विन विदेशों में भी सफल रहेंगे या नहीं. विदेशों में हालात भी बेहद अलग होते हैं, इसलिए रविचंद्रन अश्विन विदेशों में भी इसी तरह का प्रदर्शन करते हुए विकेट ले पायेंगे या नहीं अभी इस पर मैं कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता.”

आर. अश्विन ने विराट कोहली के साथ मिलकर हाल में खेली जा रही टेस्ट सीरीज में भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई है. यही कारण हैं, कि टीम इंडिया दुनिया की नंबर एक टीम बनी और लगातार पांच टेस्ट श्रृंखला जीतने में कामयाब रही.

यह भी पढ़े : वीरेंद्र सहवाग ने इस गेंदबाज़ को बताया सबसे बेहतरीन लेफ्ट आर्म स्पिन गेंदबाज़

हालही में महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने घरेलू क्रिकेट में दो अलग पिचों पर दोनों पारियों में दो अलग गेंदों (कूकाबूरा और एसजी) से मैच करने की सलाह देते अपना प्रस्ताव रखा था. जिसको एमसीसी ने साफ-साफ मना कर दिया.

जिसके बारे में मुरली कार्तिक ने कहा, कि-

”दुनियाभर के क्रिकेट में सिर्फ एक ब्रांड का उपयोग करना चाहिए. जिनमे एसजी, ड्यूक्स या कूकाबूरा का इस्तेमाल होना चाहिए.”

मुरली कार्तिक के अनुसार-

यह भी पढ़े : मुंबई टेस्ट : शतक लगाने के साथ ही विराट और सचिन से आगे निकले मुरली विजय

”मेरे हिसाब से कूकाबूरा की गेंद भारतीय हालात में काम नहीं करेगी, क्यूंकि यहाँ की विकेटे उस गेंद के अनुकूल नहीं हैं और 15 ओवरों के बाद स्पिनर हों या तेज गेंदबाज उन्हें इस गेंद से कोई मदद नहीं मिलेगी. मैं तो यही कहूँगा, कि दुनिया भर के क्रिकेट में एक ही गेंद का प्रयोग करना चाहिए. जो प्रत्येक हालात में सभी के अनुकूल हो. मुझे नहीं पता सचिन पज्जी ने क्या बोला हैं. पर मेरे यही विचार हैं.”

Related posts