मुथैया मुरलीधरन पर आ रही बायोपिक के विरोध में तमिल राजनीतिक पार्टियां, ये हैं वजह 1

श्रीलंका क्रिकेट इतिहास के सबसे महान खिलाड़ियों में से एक मुथैया मुरलीधरन का प्रदर्शन किसी से छिपा नहीं है। महान स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन ने अपनी गेंदबाजी से क्रिकेट जगत में एक ऐसा मुकाम हासिल किया है जहां किसी भी खिलाड़ी के लिए आस-पास भी पहुंचना एक बहुत ही मुश्किल चुनौती रहेगी।

मुथैया मुरलीधरन के नाम पर बायोपिक की तैयारी

विश्व क्रिकेट में मुथैया मुरलीधरन का एक बहुत ही बड़ा नाम रहा है। उन्होंने अपने नाम जिस तरह की उपबल्धि को हासिल किया है, ऐसा कई अन्य गेंदबाज नहीं कर सका है, मुरलीधरन ने टेस्ट करियर में सबसे ज्यादा 800 विकेट का कारनामा किया है।

मुथैया मुरलीधरन पर आ रही बायोपिक के विरोध में तमिल राजनीतिक पार्टियां, ये हैं वजह 2

श्रीलंका के इस स्पिन जादूगर ने टेस्ट क्रिकेट में 800 विकेट हासिल किए हैं, इसी कारण से उनके नाम पर भारत में एक बायोपिक बनाने की तरफ कदम बढ़ा दिया गया है। तमिल एक्टर विजय सेतुपति इस बायोपिक के साथ फिर से वापसी कर रहे हैं।

विजय सेतुपति को मुरलीधरन की बायोपिक ना करने की दी जा रही है सलाह

तमिल एक्टर विजय सेतुपति लंबे समय के बाद फिर से फिल्मी दुनिया में इस बायोपिक के साथ वापसी करने जा रहे हैं, लेकिन बायोपिक के अभी तो केवल ऐलान करने के बाद से ही तमिलनाडू में इसका जोरदार विरोध हो रहा है औ विजय सेतुपति को मुरली पर कोई बायोपिक ना बनाने का दबाव डाला जा रहा है।

विजय सेतुपति मुथैया मुरलीधरन पर 800 नाम से बायोपिक बनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं, लेकिन वहीं तमिलनाडू के विरोध के स्वर देखने को मिल रहे हैं। जिसमें कुछ राजनीतिक पार्टियों ने कहा कि विजय सेतुपति को मुरलीधरन के तमिलों के खिलाफ होने के कारण बायोपिक में काम नहीं करना चाहिए। तमिलनाडू में तमिलों के इस तरह से विरोध से मुथैया मुरलीधरन काफी निराश हैं और उन्होंने कहा कि उन पर तमिलों के खिलाफ होने का आरोप लगाया जा रहा है।

मुरलीधरन ने जतायी निराशा, तमिलों के खिलाफ होने का आरोप निराधार

मुरलीधरन ने इसे लेकर कहा कि “ये राजनीतिक अज्ञानता के कारणों से हो रहा है। उन्होंने कभी भी मासूम लोगों के मारे जाने का समर्थन नहीं किया है। वो श्रीलंकाई गृहयुद्ध के दर्द को समझते हैं और उनके परिवार ने श्रीलंका में अपनी यात्रा कूली के तौर पर की थी। हम भी गृहयुद्ध से काफी प्रभावित रहे हैं।”

मुथैया मुरलीधरन पर आ रही बायोपिक के विरोध में तमिल राजनीतिक पार्टियां, ये हैं वजह 4

तमिलनाडू की कुछ राजनीतिक पार्टियां इसके खिलाफ हैं जिसमें एमडीएमके पार्टी के महासचिव वाइको ने आरोप लगाते हुए कहा कि “मुरलीधरन को पूरी दुनिया में तमिल जाति से विश्वासघात करने के लिए माना जाता है। जिन्होंने श्रीलंकाई गृहयुद्ध के दौरान वर्ष 2009 में तत्कालीन राष्ट्रपति राजपक्षे का समर्थन किया था।”