अंपायर की गलती से नाखुश है सनराइजर्स हैदराबाद टीम मैनेजमेंट, कप्तान ने भी किया नो बॉल का उल्लेख 1
(Photo Credit: BCCI/IPL)

कल सुपर संडे में दो मुकाबले खेले गये थे जिसमें पहला मैच सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच हैदराबाद में खेला गया जिसमें होम टीम को हार का सामना करना पड़ा। इस प्रकार आईपीएल में एक बार फिर विवाद बढ़ रहा है क्योंकि कल इस मैच में अंपायर विनीत कुलकर्णी ने गलत फैसला दिया जिसके कारण अब फैंस सवाल उठा रहे है।

अंपायर की गलती से नाखुश है सनराइजर्स हैदराबाद टीम मैनेजमेंट, कप्तान ने भी किया नो बॉल का उल्लेख 2

दरअसल आपको बता दें कि कल मैच में केन विलियम्सन को चेन्नई सुपर किंग्स के तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर ने गेंद फेंकी थी जो की कमर से काफी उंची थी और अक्सर ऐसी गेंद को अंपायर नो बॉल दे देते है, लेकिन यह गेंद उन्होंने नो बॉल नहीं करायी इस कारण अब जमकर आलोचनाएँ हो रही है।

यह मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद जीत सकती थी लेकिन महज 4 रनों से हार का सामना करना पड़ा जिसमें यह नो बॉल सबसे बड़ा कारण है क्योंकि अगर अंपायर यह नो बॉल दे देते तो मैच जीत सकती थी, क्योंकि एक अतिरिक्त गेंद मिलती और फ्री हित भी लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। इस प्रकार अब अंपायर की आलोचनाएँ हो रही है।

अंपायर की गलती से नाखुश है सनराइजर्स हैदराबाद टीम मैनेजमेंट, कप्तान ने भी किया नो बॉल का उल्लेख 3

अंपायर की गलती से नाखुश है सनराइजर्स हैदराबाद टीम मैनेजमेंट, कप्तान ने भी किया नो बॉल का उल्लेख 4

सोशल मीडिया ने अपने गलत फैसले के लिए कुलकर्णी को अब ट्रोल करना शुरू कर दिया है, साथ ही सनराइजर्स हैदराबाद टीम प्रबंधन भी परेशान था और कप्तान ने अपनी रिपोर्ट में लेग अंपायर की गलती का उल्लेख किया है, कहा है, “यहां तक ​​कि सनराइजर्स हैदराबाद के सभी खिलाड़ी भी बहुत अपसेट रहे है क्योंकि वास्तव में यह नो बॉल ही थी लेकिन अंपायर ने गलत निर्णय दिया। यह सही है कि गलती होती रहती है लेकिन अगर सही निर्णय नहीं है तो तीसरे अंपायर से भी मदद ली जा सकती है।”

अंपायर की गलती से नाखुश है सनराइजर्स हैदराबाद टीम मैनेजमेंट, कप्तान ने भी किया नो बॉल का उल्लेख 5

सूत्रों के अनुसार सनराइजर्स हैदराबाद के टीम मैनेजर ने मैच के ठीक बाद मैच रेफरी सुनील चतुर्वेदी से भी मुलाकात की, लेकिन यह पता नहीं चला कि उनके बीच क्या हुआ। लेकिन सूत्रों ने पुष्टि की कि हैदराबाद के प्रबंधकों ने कप्तान की रिपोर्ट में नो-बॉल मुद्दे के बारे में उल्लेख किया था। सूत्र ने जोर देकर कहा, “अगर ऐसी कोई गलती अनजान में हो जाती है, तो इसके लिए किसी से मदद लेनी चाहिए।”

 

मैच के 17वें ओवर में शार्दुल ठाकुर ने कमर के ऊपर हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन को एक फुल टॉस गेंद फेंकी की। लेग अंपायरों को नो-बॉल कॉल करने और बाउंसर की जांच करने का अधिकार दिया गया है, लेकिन कुलकर्णी ने इसे नो-बॉल नहीं कहा और टीवी अंपायरों से भी जांच नहीं की। निर्णय पर बल्लेबाज खुद चौंक गए।

इस प्रकार कुल मिलाकार यह मुकाबला सनराइजर्स हैदराबाद जीत सकती थी लेकिन अंपायर की यह गलती टीम पर बहुत महंगा पड़ा और मैच 4 रनों से गंवाना पड़ा।

RAJU JANGID

क्रिकेट का दीवाना हूँ तो इस पर लिखना तो बनता है।

Leave a comment