/

एक बार फिर बीसीसीआई ने किया कुछ ऐसा जिससे दिखा बीसीसीआई और आईसीसी में मतभेद

भारतीय टीम जल्द ही न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ टेस्ट मैच की श्रृंखला खेलने जा रही है, और इस श्रृंखला का पहला ही मैच भारतीय टीम के लिए ऐतिहासिक होने वाला है. 22 सितम्बर को कानपुर के ग्रीन पार्क मैदान पर जब टीम इंडिया मैच खेलने उतरेगी तो वह मैच भारतीय टीम का 500 वाँ टेस्ट मैच होगा.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

भारतीय क्रिकेट बोर्ड इस ऐतिहासिक लम्हे को यादगार बनाना चाहता है. ऐसा करने के लिए बीसीसीआई ने एक शानदार समारोह आयोजित किया है, जिसमे बीसीसीआई के सभी बड़े चेहरें शामिल होंगे.

यह भी पढ़े : न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ चुनी गयी भारतीय टीम का विश्लेषण

बीसीसीआई और आईसीसी के बीच हाल फ़िलहाल में सम्बन्ध कुछ खास नहीं रहे है और इसका उदाहरण, इस अवसर पर भी देखने को मिला है. खबरों के अनुसार बीसीसीआई ने इस अवसर पर आईसीसी के किसी भी सदस्य को आमंत्रित नहीं किया है. गौरतलब है कि आईसीसी के मौजूदा अध्यक्ष शशांक मनोहर को भी न्योता नहीं भेजा गया, शशांक भारतीय क्रिकेट बोर्ड के दो बार पूर्व अध्यक्ष रह चुके है. आईसीसी के सीइओ डेव रिचर्डसन को भी आमंत्रित नहीं किया गया है.

हाल फ़िलहाल में कुछ कारणों कि वजह से बीसीसीआई और आईसीसी के बीच मतबेध रहा है और यही एक कारण है जिसकी वजह से आईसीसी का कोई भी सदस्य भारत के 500वें टेस्ट मैच के समारोह पर शामिल नहीं होंगे.

यह भी पढ़े : गौतम गंभीर के करियर की 5 बड़ी उपलब्धियां

यह पूरा समारोह उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोशिएशन आयोजित कर रहा है. इस समारोह में पूर्व भारतीय कप्तानों का सम्मान किया जायेगा. उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोशिएशन के अध्यक्ष राजीव शुक्ला इस समारोह के प्रमुख आयोजक रहेंगे. शुक्ला ने बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और जनरल मैनेजर एमवी श्रीधर से बातचीत कर चुके है. इस समारोह में पूर्व कप्तानों के सम्मान के साथ उनके लिए डिनर का भी प्रबंध किया जायेगा और सभी टिकेट खरीदने वाले दर्शकों को टी-शर्ट मुफ्त में दी जाएगी.