आज ही के दिन 111 साल पहले बना था क्रिकेट इतिहास में यह अद्भुत रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं टूट पाया 1
©Getty Images

आज वर्तमान में क्रिकेट में अल्बर्ट ट्रॉट का नाम भले ही कुछ अनजाना-सा लगता हो, लेकिन इस क्रिकेट खिलाड़ी के नाम क्रिकेट में बहुत बड़ा रिकॉर्ड है। दरअसल हैरानी वाली बात तो यह है कि ऑस्ट्रेलिया में जन्मे एक ऑलराउंडर खिलाड़ी ने आज ही के दिन अर्थात 22 मई 1907 में एक ऐसा कारनामा किया था जो आज तक क्रिकेट इतिहास में महज 2 बार ही हुआ है।

आज ही के दिन 111 साल पहले बना था क्रिकेट इतिहास में यह अद्भुत रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं टूट पाया 2
© Getty Images

तो यह था वह कारनामा

दरअसल, आपको बता दें कि अल्बर्ट ट्रॉट ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अज ही के दिन साल 1907 में जबरदस्त गेंदबाजी करते हुए एक ही पारी में दो हैट्रिक अपने नाम की थी जो कि दूसरी बार ऐसा हुआ था जब किसी गेंदबाज ने एक ही पारी में दो हैट्रिक ली हो। साथ ही इन्होंने अगली गेंद पर भी विकेट लिया था अर्थात लगातार चार गेंदों पर चार विकेट लेने का यह पहला उदाहरण था।

ऐसे किया था यह कारनामा

आज ही के दिन 111 साल पहले बना था क्रिकेट इतिहास में यह अद्भुत रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं टूट पाया 3

बता दें कि अल्बर्ट ट्रोट ने यह कारनामा साल 1907 में किया था। उस दौरान मैच के तीसरे दिन समरसेट की टीम को मैच में जीत हासिल करने के लिए 264 रन बनाने थे और ऐसा ही लग रहा था कि ये बना देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ क्योंकि ट्रॉट की दो जबरदस्त हैट्रिक के चलते वह मैच बहुत जल्द ही खत्म हो गया था।

आज ही के दिन 111 साल पहले बना था क्रिकेट इतिहास में यह अद्भुत रिकॉर्ड, जो आज तक नहीं टूट पाया 4
©Getty Images

दरअसल आपको बता दें कि इस मैच में हुआ यह कि समरसेट की टीम ने टारगेट का पीछा करते हुए 77 रनों पर 2 विकेट पर बनाये थे। इसके बाद ट्रॉट ने शानदार गेंदबाजी करते हुए हैट्रिक बनाई और लगातार चार गेंदों में चार विकेट निकालकर स्थिति को पूरी तरह से बदल दिया जिसके बाद समरसेट का स्कोर 77 रनों पर सीधे 2 विकेट की बजाय 6 विकेट हो गया।

इसके तत्पश्चात जब टीम का स्कोर 97 तक पहुंचा तो उस समय 7 विकेट गिर गए थे लेकिन फिर ट्रॉट ने हैट्रिक बना दी और पूरी टीम को महज 97 रनों पर ही ऑल आउट कर दिया। इसमें इनका गेंदबाजी विशलेषण 8 ओवर में 20 रन देकर 7 विकेट रहा था। इस तरह आज ही के दिन इन्होंने यह अजीब कारनामा किया था।

RAJU JANGID

क्रिकेट का दीवाना हूँ तो इस पर लिखना तो बनता है।

Leave a comment