कुलदीप यादव की गेंदबाजी के एक साल. जानिए उनके चाइनामेन बनने का राज

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुलदीप के पुरे हुए 1 साल, अब कुलदीप ने खुद बताया उनके चायनामैन बनने का राज 

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुलदीप के पुरे हुए 1 साल, अब कुलदीप ने खुद बताया उनके चायनामैन बनने का राज

भारतीय क्रिकेट टीम में आजकल रिस्ट स्पिनरों काफी जलवा छाया हुआ है। पिछले कुछ सालों में भारतीय टीम में अश्विन और जडेजा ने अपना दबदबा और दुनियाभर के बल्लेबाजों पर अपना खौफ जमा कर रखा था। वहीं पिछले महीनों से इन दोनों गेंदबाजों की जगह भारतीय टीम में शामिल हुए दो नए युवा गेंदबाजों ने ले ही है. इन दो नए युवा गेंदबाजों का नाम है युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव.

चायना मैन गेंदबाज का एक साल पूरा

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुलदीप के पुरे हुए 1 साल, अब कुलदीप ने खुद बताया उनके चायनामैन बनने का राज 1

इन दोनों गेंदबाजों ने भारतीय टीम में शामिल होने के बाद ऐसा प्रदर्शन किया कि लोग अश्विन और जडेजा की भी भूल गए। चायनामैन गेंदबाज का तमगा हासिल कर चुके कुलदीप यादव को अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत किए हुए एक साल होने वाला है। पिछले साल 25 मार्च को कुलदीप यादव ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना पहला मैच खेला था।

कुलदीप के जादू का राज

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुलदीप के पुरे हुए 1 साल, अब कुलदीप ने खुद बताया उनके चायनामैन बनने का राज 2

इसके बाद कुलदीप को शायद खुद भी अंदाजा नहीं होगा कि महज एक साल बाद ही वो अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में इतना बड़ा नाम कमा चुके होंगे। कुलदीप यादव को अश्विन और जडेजा की जगह टीम में शामिल किया गया। इंडिया टीम में आने के बाद पहले घरेलू पिच और फिर विदेशी पिचों पर भी शानदार गेंदबाजी करके एक मुकाम हासिल कर लिया।

23 वर्षीय इस युवा स्पिनर ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में कहा कि,

“उन्हें उनकी गेंदबाजी में आधुनिक तकनीक और वीडियो विश्लेषण से कुछ खास फायदा नहीं हुआ है.”

कुलदीप ने कहा कि,

“तकनीक और वीडियो को काफी लंबे समय तक के लिए देख सकते हैं लेकिन आपको अपनी खुद की तकनीक से ज्यादा फायदा कोई नहीं दे सकता है.”

चायनामैन गेंदबाज ने कहा कि,

“अगर आप गेंद को टर्न करना जानते हैं, तो गेंद को लहराने और अपनी गेंद से विपक्षी गेंदबाजों को डराना जानते हैं, तो आप  को एक बेहतर गेंदबाज बनने से कोई नहीं रोक सकता.” 

कुलदीप यादव ने कहा कि,

“मैं नहीं मानता कि मुझे मेरी गेंदबाजी समझने में वीडियो और आधुनिक तकनीक से ज्यादा फायदा हुआ है.”

उन्होंने कहा कि,

“गेंदबाजी में कुछ छोटी-छोटी सी चीजें होती हैं, जो आप किसी तकनीक या वीडियो से नहीं बल्कि खुद ही सीख सकते हैं। आपको बल्लेबाज की सोच को पढ़कर उसके हिसाब से गेंदबाजी करना जरूरी होता है। गेंदबाजी में मैच की परिस्थितियों को समझना जरूरी होता। ये सभी चीजें आपको अभ्यास करते-करते समझ में आती है और इसी से आप एक सफल गेंदबाज बनते हैं.”

साउथ अफ्रीका दौरा रहा खास

अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुलदीप के पुरे हुए 1 साल, अब कुलदीप ने खुद बताया उनके चायनामैन बनने का राज 3

कुलदीप ने पिछले एक साल में कुल 60 विकेट लिए हैं। जिनमें से सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण और खास साउथ अफ्रीका दौरा रहा है। इस दौरे में कुलदीप यादव ने 6 वनडे में 17 विकेट लेकर रिकॉर्ड बना दिया।

Related posts

Leave a Reply