हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम 

हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम

दक्षिण अफ्रीकी टीम टेस्ट मैचों में भारत से भिड़ने के लिए तैयार है। दोनों टीमों के बीच 2 अक्टूबर से तीन मैचों की सीरीज खेली जाएगी। इससे पहले हुई टी-20 सीरीज में भारत को एक वहीं दक्षिण अफ्रीका को भी एक जीत मिली और सीरीज बराबरी पर रहा। ऐसे में टेस्ट सीरीज से पहले मेहमान टीम का आत्मविश्वास काफी ऊपर है।

परिस्थितियों का एहसान है

हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम 1

दक्षिण अफ्रीका के सलामी बल्लेबाज एडेन मार्क्रम का कहना है कि उनकी टीम परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही। उन्होंने कहा कि उनकी टीम को काफी हद तक पता है कि कैसी परिस्थिति होने वाली है। सलामी बल्लेबाज ने रिपोर्टरों से कहा

“खिलाड़ी सकारात्मक और उत्साहित हैं और हम चेंजरूम में एक बहुत अच्छी शारीरिक भाषा बनाए रख रहे हैं, जो वास्तव में मजबूत है। कुल मिलाकर हम परिस्थितियों को लेकर ज्यादा सोचने नहीं जा रहे हैं। हमें काफी हद तक पता है कि वह ऐसी होने वाली है और हमें सिर्फ अपना काम पूरा करना है।”

इंडिया ए के खिलाफ बेहतरीन बल्लेबाजी

हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम 2

एडेन मार्क्रम ने इंडिया ए के खिलाफ हाल में ही समाप्त हुई अनधिकारिक टेस्ट सीरीज में  बेहतरीन बल्लेबाजी की। दो मैचों की सीरीज के दूसरे मैच में उन्होंने 161 रनों की पारी खेली। इंडिया ए की टीम में कुलदीप  यादव और उमेश यादव जैसे गेंदबाज भी थे। इस पर उन्होंने कहा

“व्यक्तिगत दृष्टिकोण से कहा जाए तो मैदान के बीच में समय बिताना अच्छा था। मुझे लगता है कि हमें मिलने वाले विकेट ए सीरीज में मिले विकेटों से काफी अलग होंगे।”

चुनौतीपूर्ण होने वाला है

हमारी टीम भारत की परिस्थितियों के बारे में नहीं सोच रही: एडेन मार्क्रम 3

दक्षिण अफ्रीका में भारत में पिछली टेस्ट सीरीज में 3-0 से करारी हार मिली थी। स्पिन के लिए मददगार पिच पर दक्षिण अफ्रीका का कोई बल्लेबाज टिककर नही खेल पाया था और मार्क्रम भारतीय उपमहाद्वीप की परिस्थितियों को काफी मुश्किल मानते हैं। उन्होंने कहा

“भारत को छोड़ दें, मुझे लगता है कि यह उपमहाद्वीप में कहीं का दौरा आसान नहीं होता है। यह चुनौतियों से भरा है, लेकिन अगर हम उन चुनौतियों पर पार पा सकते हैं तो यह फायदेमंद होगा।”

Related posts