अपने 'मैन ऑफ़ द मैच' को शाहीन अफरीदी ने इस ख़ास इंसान को किया समर्पित

Trending News

Blog Post

इंटरव्यूज

PAKvsBAN : अपने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ को शाहीन अफरीदी ने इस ख़ास इंसान को किया समर्पित 

PAKvsBAN : अपने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ को शाहीन अफरीदी ने इस ख़ास इंसान को किया समर्पित

युवा तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी की शानदार तेज गेंदबाजी के दम पर पाकिस्तान की टीम ने बांग्लादेश की टीम को विश्व कप 2019 के 44वें मैच में 94 रन के बड़े अंतर से हरा दिया है. भले ही पाकिस्तान सेमीफाइनल में अपनी जगह ना बना पाई हो, लेकिन शाहीन अफरीदी की शानदार गेंदबाजी ने करोड़ो पाकिस्तानी क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीत लिया है.

शानदार गेंदबाजी के लिए शाहीन अफरीदी को मिला ‘मैन ऑफ़ द मैच’

शाहीन अफरीदी ने इस मैच में अपने 9.1 ओवर में मात्र 35 रन देकर कुल 6 विकेट हासिल किये. किसी भी पाकिस्तानी गेंदबाज द्वारा विश्व कप इतिहास में किया गया यह सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है. उन्हें इस शानदार गेंदबाजी के लिए ‘मैन ऑफ़ द मैच’ के ख़िताब से भी नवाजा गया है.

गेंदबाजी कोच अज्जू भाई ने की काफी मदद 

युवा तेज गेंदबाज शाहीन अफरीदी ने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ लेते हुए अपने बयान में कहा, “सबसे पहले मैं अपनी गेंदबाजी के लिए अल्लाह को धन्यवाद कहना चाहता हूँ.

गेंदबाजी कोच अज्जू भाई (अजहर महमूद) नेट्स में मेरी काफी मदद कर रहे थे और उनके ही मार्गदर्शन से मैं अच्छी गेंदबाजी कर पाया हूँ. मैं अपने इस प्रदर्शन से काफी खुश हूं. यह मेरे लिए, मेरे परिवार और पूरे पाकिस्तान के लिए भी एक खास अहसास है.” 

मेरे सीनियर्स का अनुभव भी मेरे लिए बहुत मददगार रहा

शाहीन अफरीदी ने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ लेते हुए आगे अपने बयान में कहा, “मेरे सीनियर्स लोग मुझे यॉर्कर गेंदबाजी करने के लिए कहते हैं और मैं उसकी भी कोशिश कर रहा हूं. मेरे सीनियर्स का अनुभव भी मेरे लिए बहुत मददगार रहा है.

यह एक धीमा विकेट था और हमने पहली पारी में मुस्ताफिजुर रहमान को काफी कटर गेंदबाजी करते हुए देखा था. उन्हें अपनी गेंदबाजी में कटर गेंदों से काफी मदद भी मिल रही थी, इसलिए मैंने भी ऐसा ही करने की कोशिश की है और उसमें मैं सफल भी रहा हूँ.”

अपने अब्बू को करता हूँ ‘मैन ऑफ़ द मैच’ समर्पित

अपने ‘मैन ऑफ़ द मैच’ को अपने पिताजी को समर्पित करते हुए शाहीन अफरीदी ने कहा, “‘मैन ऑफ़ द मैच’ का ख़िताब हासिल करना निश्चित रूप से मेरे लिए एक विशेष पुरस्कार है और मैं इसे अपने अब्बू (पिताजी) को समर्पित करना चाहता हूं.”

 

Related posts