ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अच्छा प्रदर्शन के बाद ऋषभ पंत ने दिया अपने आलोचकों को करारा जवाब 1

भारतीय टीम ने हाल ही में खत्म हुए ऑस्ट्रेलिया दौरे पर तमाम परेशानियों के बावजूद बेहतरीन क्रिकेट खेलते हुए 2-1 से बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी में ऐतिहासिक जीत दर्ज की. इस जीत में टीम के लिए कई नए हीरो और युवा सितारे उभरकर सामने आए. जिन्हें देख कर ये कहा जा सकता है कि भारतीय क्रिकेट का भविष्य सुरक्षित हाथों में है.

एडिलेड में हुए पहले टेस्ट से ब्रिसबेन में हुए आखिरी टेस्ट तक भारतीय टीम अपने मुख्य खिलाड़ियों की चोट से जूझती रही. लेकिन इस दौरान नई नस्ल के नौजवान क्रिकेटर्स ने जिस तरह का जज़्बा दिखाया वो वाक़ई काबिलेतारीफ़ था. इन्हीं नए हीरोज़ में से एक हीरो हैं दिल्ली के युवा विकेटकीपर-बल्लेबाज़ ऋषभ पंत.

बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी में भारत की जीत के हीरो रहे पंत

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ ऋषभ पंत का शानदार प्रदर्शन

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पूरी टेस्ट सीरीज़ के दौरान अपनी शानदार क्लास और बेहतरीन क्रिकेटिंग एटीट्यूड से 23 वर्षीय युवा भारतीय विकेटकीपर-बल्लेबाज़ ऋषभ पंत ने सभी क्रिकेट प्रशंसकों और क्रिकेट एक्सपर्ट्स को अपना मुरीद बना लिया  है. 4 मैचों की टेस्ट सीरीज़ में पंत भारतीय टीम के लिए सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ थे.

लेकिन दिल्ली के इस युवा क्रिकेटर के लिए हमेशा से चीज़ें इतनी अच्छी नहीं थी. आईपीएल 2019 में उनको अपनी फ़ॉर्म के साथ संघर्ष करते हुए देखा जा सकता था. बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफ़ी पर जाने से पहले बढ़े हुए वज़न और पूअर विकेटकीपिंग स्किल्स की वजह से सोशल मीडिया पर पंत का खूब मजाक बनाया गया था.

औसत विकेटकीपिंग के चलते वन-डे सीरीज़ में नहीं मिली थी जगह

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अच्छा प्रदर्शन के बाद ऋषभ पंत ने दिया अपने आलोचकों को करारा जवाब 2

आईपीएल 2020 का सीज़न पंत के लिए बल्ले से तो काफ़ी बेहतर गुज़रा था. लेकिन विकेट के पीछे उनके प्रदर्शन ने फिर एक बार निराश किया और इसीलिए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ सीमित ओवरों की सीरीज़ के लिए चयनकर्ताओं ने उन्हें  नज़रअंदाज़ कर दिया था. इसके बाद कयास लगाए जा रहे थे कि टेस्ट सीरीज़ में उन्हें  मौका मिल सकता है.

टेस्ट सीरीज़ से पहले दूसरे  अभ्यास मैच में शानदार शतकीय पारी के बावजूद भारतीय टीम ने एडिलेड टेस्ट में पंत की ऋद्धिमान साहा को आखिरी 11 खिलाड़ियों में जगह दी थी. लेकिन 23 वर्षीय नौजवान क्रिकेटर ने अपनी उम्मीदें नहीं छोड़ी  जिसके बाद मेलबर्न टेस्ट में उन्हें टीम में जगह मिली और फिर कभी पीछे  मुड़ कर नहीं देखा.

सोशल मीडिया की आलोचनाओं से दूर मैंने सिर्फ़ अपनी क्रिकेट पर ध्यान दिया – पंत

ऑस्ट्रेलिया दौरे पर अच्छा प्रदर्शन के बाद ऋषभ पंत ने दिया अपने आलोचकों को करारा जवाब 3

एक चैनल पर हुए इंटरव्यू के दौरान पंत ने सीनियर क्रिकेट पत्रकार बोरिया मजूमदार से बातचीत करते हुए कहा कि,

“मुझे हर रोज़ काफ़ी मुश्किलात का सामना करना पड़ रहा था, जो कि इस खेल का एक हिस्सा है. लेकिन व्यक्तिगत तौर  पर आपको अपने ऊपर पूरा विश्वास होना चाहिए. मैं खुशकिस्मत था कि मेरे आस-पास  कुछ ऐसे बेहतर लोग थे जो लगातार मुझे मेहनत करने और खुद में विश्वास रखने के लिए प्रोत्साहित करते रहे.”

इसके अलावा आलोचनाओं पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में गाबा जीत के हीरो ने कहा कि,

“मैंने इस पूरे दौरानिए के दौरान एक ही बात सीखी है कि अगर आप आगे बढ़ रहें तो आप खुद में सुधार कर रहे हैं. बाकी इधर-उधर की चीज़ों पर ध्यान देने की बजाए आपको अपने खेल पर ज़्यादा फ़ोकस करना चाहिए. खैर आज के समय  में सोशल मीडिया की वजह से आस-पास के शोर को नज़रअंदाज़ कर पाना मुश्किल है लेकिन मैंने अपने खेल पर फ़ोकस बनाए रखने के लिए इस सब से दूरी बना ली थी और इस टेक्निक ने मेरे लिए काम भी किया.”