तीसरे टेस्ट में फिर दिखा ऋषभ पंत की लचर विकेटकीपिंग का नज़ारा, भारत को भुगतना पड़ा खामियाजा 1

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सीरीज़ का तीसरा टेस्ट मैच गुरुवार 7 जनवरी से सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर  शुरु हो  चुका है. इससे पहले हुए दोनों टेस्ट में दोनों टीमों के एक-एक मैच जीतने के बाद सीरीज़ फ़िलहाल 1-1 की बराबरी पर है. सीरीज़ के तीसरे टेस्ट में जीत दर्ज कर दोनों टीमों की निगाह 2-1 की बढ़त लेने पर ज़रूर होगी.

बारिश की वजह से तीसरे टेस्ट के पहले दिन खेल की रफ़्तार ज़्यादा बेहतर नहीं रही. इसीलिए टी ब्रेक तक केवल 31 ओवर ही डाले जा सके. लेकिन तीसरे टेस्ट के पहले दिन एक बार फिर से भारतीय टीम को विकेटकीपर रिषभ पंत की मिस फ़ील्डिंग का खामियाज़ा भुगतना पड़ा.

22वें ओवर में पंत ने पुकोवस्की को दिया पहली जीवनदान

तीसरा टेस्ट

सिडनी में तीसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान टिम पेन ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया. भारतीय तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद सिराज ने सलामी बल्लेबाज़ डेविड वॉर्नर को पुजारा के  हाथों कैच करा कर ऑस्ट्रेलिया को 6 रन के स्कोर पर ही पहला झटका दिया.

इसके बाद दूसरे सलामी बल्लेबाज़ विल पुकोवस्की और तीसरे नंबर के बल्लेबाज़ मार्नस लाबुशेन बेहतर  साझेदारी करते हुए नज़र आ रहे थे. पारी के 22वें ओवर में एक मौका ऐसा भी आया जब विल पुकोवस्की आउट हो सकते थे. लेकिन ऑफ़ स्पिनर रवि अश्विन की सीधी गेंद पर बल्ले का किनारा लेकर आई गेंद को विकेटकीपर पंत ने छोड़ दिया. ये वो मौका था जब ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ को पहला जीवनदान मिला.

3 ओवर बाद फिर दोहराई गलती

तीसरे टेस्ट में फिर दिखा ऋषभ पंत की लचर विकेटकीपिंग का नज़ारा, भारत को भुगतना पड़ा खामियाजा 2

पहला कैच छोड़ने के तीन ओवर बाद ही ऑस्ट्रेलियाई पारी के 25वें ओवर में पंत को विल पुकोवस्की का एक और कैच पकड़ने का मौका मिला. इस बार सामने गेंदबाज़ थे नवदीप सैनी. लेकिन पंत ने हवा में उछला ये कैच छोड़ कर एक ही बल्लेबाज़ को दूसरा मौका दे दिया.

इसके बाद पुकोवस्की ने लाबुशेन के साथ अच्छी साझेदारी की और 62 रन का पारी खेल कर आउट हुए. लेकिन तब तक वो ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ी को एक ज़रूरी मजबूती दे चुके थे.

शुरुआती झटके के बाद ऑस्ट्रेलिया की बेहतर बल्लेबाज़ी

तीसरे टेस्ट में फिर दिखा ऋषभ पंत की लचर विकेटकीपिंग का नज़ारा, भारत को भुगतना पड़ा खामियाजा 3

पहला विकेट जल्दी गिरने के बाद ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज़ों ने बेहतर क्रिकेट खेलते हुए स्कोरबोर्ड को आगे बढ़ाया और टीम को एक बेहतर स्थिति में लेकर आए. दूसरे विकेट के लिए विल  पुकोवस्की और मार्नस लाबुशेन ने 100 रन की शानदार साझेदारी की.

हालांकि इस शतकीय साझेदारी के लिए भारतीय विकेटकीपर पंत के छोड़े हुए 2 कैच भी एक बड़ी वजह थे. अहम ये है कि अगर भारतीय टीम को मैच में खुद को बेहतर हालात में रखना है तो मिस फ़ील्डिंग जैसी बारीक गलतियों से बचना होगा.