पार्थिव पटेल

क्रिकेट की दुनिया में पिछले कुछ समय से सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी के बीच बेहतर कप्तान की तुलना देखने को मिल रही है. जिसमें कई विदेशी और भारतीय खिलाड़ी अपनी राय देते हुए नजर आ रहे हैं. अब विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल ने इस तुलना पर बोलते हुए सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी के बीच का अंतर बताया है.

पार्थिव पटेल अब धोनी और गांगुली के कप्तानी पर बोले

पार्थिव पटेल

महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली की कप्तानी करियर की अब तुलना की जा रही है. जिसमें कई बड़े खिलाड़ी अपनी पसंद बताते हुए नजर आ रहे हैं. अब उस लिस्ट में विकेटकीपर बल्लेबाज पार्थिव पटेल का नाम शामिल हो चुका है. पार्थिव पटेल ने इन दोनों दिग्गजों के बारें में बोलते स्टार स्पोर्ट्स के शो क्रिकेट कनेक्टेड में कहा कि

” दोनों कप्तानों के बीच प्रतियोगिता जायज है. एक कप्तान ने जहां टीम को बिल्ड किया, तो दूसरे ने कई ट्रॉफी जीती है. 2000 के बाद जब सौरव गांगुली कप्तान बने, तो भारतीय टीम मुश्किल दौर से गुजर रही थी. उसके बाद उन्होंने टीम बनाई और विदेशों में जीतना शुरू किया. ऐसा नहीं था कि हम पहले नहीं जीत रहे थे, लेकिन हमने कुछ बड़े टेस्ट मैच जीते.”

सौरव गांगुली के कप्तानी की तारीफ में बोले पार्थिव पटेल

पार्थिव पटेल ने बताया महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली के बीच का अंतर 1

दादा ने टीम को एक नई दिशा भी दी है. उसके कारण ही अब पार्थिव पटेल ने सौरव गांगुली की तारीफ करते हुए कहा कि

” आप 2003 वर्ल्ड कप को ही देख लीजिए, किसी ने उम्मीद नहीं की थी भारत फाइनल में पहुंचेगा. वो हमें अपने रूम में बुलाते थे और खिलाड़ियों के प्रति अपना विश्वास दिखाते थे. वो कहते थे कि वो हमारे साथ हैं और किसी को डरने की जरूरत नहीं है. मैं जब ब्रिस्बेन में नई गेंद के खिलाफ खेल रहा था, उन्होंने शतक लगाया था. मैं जेसन गिलेस्पी के खिलाफ खेल रहा था और हर गेंद के बाद वो मेरे पास आते और मेरी बल्लेबाजी की तारीफ करते. ऐसा करने से काफी फर्क पड़ता है और वो यह मेरे साथ नहीं, बल्कि सभी खिलाड़ियों के साथ करते थे.”

माही के कप्तानी पर पार्थिव ने दी अपनी राय

पार्थिव पटेल ने बताया महेंद्र सिंह धोनी और सौरव गांगुली के बीच का अंतर 2

पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी पर भी पार्थिव ने अपनी राय दी, हालाँकि दादा को वोट देते हुए पार्थिव पटेल ने कहा कि,

” वहीं, अगर आप एमएस धोनी के बारे में बात करते, तो उनकी कप्तानी में भारत ने कई ट्रॉफियां जीती हैं. वह इकलौते ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने इतनी ज्यादा ट्रॉफियां जीती हैं, लेकिन अगर मुझे वोट देना हो तो मेरा वोट दादा के लिए होगा क्योंकि उन्होंने शून्य से टीम तैयार की.”