पार्थिव पटेल के शानदार प्रदर्शन के बाद भी मुख्य चयनकर्ता ने उन्हें बताया साहा खराब विकेटकीपर बल्लेबाज

भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज और राष्ट्रीय चयन समिति के अध्यक्ष मानवा वेंकटेश प्रसाद ने भारतीय टीम में इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में शामिल हुए पार्थिव पटेल को लेकर बड़ा बयान दिया है. पार्थिव ने भारतीय टीम में आठ साल बाद वापसी की है. विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के चोटिल होने के बाद उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ बाकी के मैचों के लिए टीम में चुना गया है.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

पार्थिव पटेल ने तीसरे टेस्ट मैच में शानदार बल्लेबाजी की पहली पारी में 45 और दूसरी पारी में नाबाद 67 रन बनाये थे इन सबके बावजूद भी अध्यक्ष मानवा वेंकटेश प्रसाद ने पार्थिव को साहा से ख़राब बताते हुए विवादित बयान दिया.

यह भी पढ़े : हमेशा अपने शांत स्वभाव की वजह के लिए जाने जाने वाले गंभीर ने युवराज कों शादी के बाद दी चेतावनी

भारत टीम जब मोहाली टेस्ट जीतने के करीब था, तब वेंकटेश प्रसाद रणजी के मैच देखने में व्यस्त थे, लेकिन इन सबके बावजूद भी उन्होंने पार्थिव के खेल को तबज्जो नही दी और रणजी में गौतम गंभीर और शिखर धवन की बल्लेबाजी को लेकर ज्यादा उतावले हो रहे थे, ऐसा उनकी बातो से पता चला मैच के बाद इंटरव्यू में उन्होंने बयान दिया.

प्रसाद ने कहा,

” पार्थिव ने बीते समय में गुजरात के लिए खेलते हुए जो प्रदर्शन किया है वह काफी अच्छा था जिसके चलते उन्हें टीम में चुना गया. वह दस्ताने से अच्छा कर रहे हैं. लेकिन इसमें कोई संदेह नही है कि साहा उनसे नंबर एक हैं. अगर वह चोटिल न होता तो इस समय टीम में होता.”

यह भी देखे: PHOTO: युवराज की शादी में कोच कुंबले और कैफ के साथ ये बालीवुड स्टार्स भी थे मौजूद

अध्यक्ष वेंकटेश ने आगे कहा,

” अश्विन भारत के लिए लम्बे समय से गेंदबाजी करते आ रहे हैं,लेकिन इन दिनों बल्ले के साथ वह काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. उनकी इस बल्लेबाजी के चलते ड्रेसिंग रूम के अन्य खिलाड़ी राहत की साँस ले रहे हैं. भविष्य में हम ऋषभ पंत के बारे में सोच रहे हैं, उसने हाल  ही में बहुत बढ़िया प्रदर्शन किया है. उसे आगे भी ऐसे खेलते रहना होगा.” 

पार्थिव ने टीम में जगह पाने के लिए लम्बा इंतज़ार किया है जिसके बाद उन्हें टीम में जगह मिली और फिर इस तरह के बयान से उनका मनोबल कम होगा. प्रसाद को इस तरह के बयान से बचना चाहिए.