/

29 अगस्त को मुंबई की बारिश में फँसे प्रवीन आमरे उसके बाद हुआ कुछ ऐसा जानकर रह जायेंगे हैरान

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी और इस समय बल्लेबाजी कोच की भूमिका को निभाने वाले प्रवीन आमरे 29 अगस्त को मुंबई में आई जोरदार बारिश के बाद आने बाढ़ जैसे हालात में फास गए थे. मुंबई में इस बारिश के कारण के सभी तरह के साधन एक जगह पर ठहर से गए थे, उसमे रेलवे भी हो कि मुम्बई की जान का काम करती हैं वह भी अपनी जगह पर ही रुक से गयीं थी. मुंबई के रहने वाले सभी लोगों को रोड का सहारा लेना पड़ा था, अपने स्थान तक पहुँचने के लिए जहाँ पर उन्हें अपनी कमर से उपर तक के पानी के बीच में चलना पड़ रहा था.

जेसीसी
बनना चाहते हैं प्रोफेशनल क्रिकेटर?
अभी करें रजिस्टर

*T&C Apply

एक समारोह में शामिल होने गयें थे

29 अगस्त को मुंबई की बारिश में फँसे प्रवीन आमरे उसके बाद हुआ कुछ ऐसा जानकर रह जायेंगे हैरान 1

प्रवीन आमरे जो कि भारतीय टीम में कई सारे खिलाड़ियों के वापसी का प्रमुख कारण हैं, जिसमे आजिंक्य रहाणे, रोबिन उथप्पा और श्रेयस अय्यर जैसे नाम शामिल हैं. आमरे 29 अगस्त को थाणे में एक समारोह में शामिल होने के लिए गयें थे, जिसके बाद जब वे वहां से अपनी कार से माटुंगा वेस्ट अपार्टमेन्ट में वापस लौटने के लिए निकले, तो उनकी गाड़ी पानी के बीच में चलने लायक नहीं थी और शहर के बीच में ही रुक गयीं, जिसके बाद उन्हें अपने घर तक जाने के लिए पैदल चलने के अलावा दूसरा कोई भी साधन नहीं बचा था और वे सायन से माटुंगा वेस्ट तक पैदल चलकर आयें.

मैंने पैदल चलने का फैसला लिया

29 अगस्त को मुंबई की बारिश में फँसे प्रवीन आमरे उसके बाद हुआ कुछ ऐसा जानकर रह जायेंगे हैरान 2

इस घटना के बारे में इण्डिया टुडे के साथ बातचीत के दौरान प्रवीन आमरे में बताया कि ” मैं चेम्बूर तक ड्राइव करके चला आया, जिसमे मुझे अधिक परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा, लेकिन इसके बाद मैं अपनी गाड़ी से आगे जाने में असमर्थ हो गया, इसके बाद मैंने अपनी कार को एक सुरक्षित जगह पर खड़ी करने की जगह सायन में देखि और मैंने वहां से अपने घर तक पैदल चलने का फैसला किया.

2005 की घटना याद आ गयीं

29 अगस्त को मुंबई की बारिश में फँसे प्रवीन आमरे उसके बाद हुआ कुछ ऐसा जानकर रह जायेंगे हैरान 3

प्रवीन आमरे में 29 अगस्त के हालात के बारे में आगे बोलते हुए कहा कि ” मुंबई में रहने वाले हर इंसान के लिए उस दिन हालात काफी खराब थे, मैं लेबर कैंपस से होते हुए धारावी के जरिये माटुंगा वेस्ट पहुंचा था, जहाँ पर पूरे रस्ते भर में घुटने से भी ऊपर तक पानी भरा हुआ था और ये काफी डरावना था, क्योकि यदि कोई गहरा गढ्ढा होता, तो उसमे गिर कर कोई भी मुसीबत में पड़ सकता था और मदद करने वाला भी कोई आसपास नहीं था. मुझे इस घटना के बाद 2005 में हुयीं घटना याद आ गयीं, क्योकि उस समय भी ऐसे ही हालात बने थे.

29 अगस्त को मुंबई की बारिश में फँसे प्रवीन आमरे उसके बाद हुआ कुछ ऐसा जानकर रह जायेंगे हैरान 4