BREAKING- एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया ने पैट कमिंस को सौंपी कप्तानी, स्मिथ को मिली ये जिम्मेदारी 1

विश्व क्रिकेट की सबसे बेहतरीन और सफलतम टीम में से एक ऑस्ट्रेलिया ने एशेज सीरीज के लिए अपने नए कप्तान का ऐलान कर दिया है। शुक्रवार सुबह ऑस्ट्रेलिया ने बड़ा फैसला लेते हुए एशेज सीरीज से ठीक पहले तेज गेंदबाज पैट कमिंस को अपना नया टेस्ट कप्तान नियुक्त किया है।

ऑस्ट्रेलिया ने पैट कमिंस को किया कप्तान नियुक्त

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने पिछले ही दिनों एशेज सीरीज के लिए अपनी टीम का ऐलान किया था, जिसमें टिम पेन को कप्तान के तौर पर बरकरार रखा था, लेकिन कुछ ही दिनों बाद एक विवाद के चलते टिम पेन ने कप्तानी पद से इस्तीफा दे दिया था।

टिम पेन के द्वारा कप्तानी छोड़ने के बाद से ही क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया नए कप्तान की तलाश कर रहा था, जो आखिरकार शुक्रवार को तलाश को खत्म करते हुए तेज गेंदबाज पैट कमिंस को 47वें टेस्ट कप्तान के रूप में नियुक्त कर दिया गया है।

पैट कमिंस बने ऑस्ट्रेलिया के 47वें टेस्ट कप्तान

अनुभवी तेज गेंदबाज पैट कमिंस पिछले कुछ साल से ऑस्ट्रेलिया की टीम के लिए सबसे नियमित सदस्य रहे हैं, जिन्होंने तीनों ही फॉर्मेट में लगातार जगह बनायी तो साथ ही बेहतरीन प्रदर्शन किया। पैट कमिंस ऑस्ट्रेलिया के लिए उपकप्तान के तौर पर भी काम कर रहे थे।

BREAKING- एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया ने पैट कमिंस को सौंपी कप्तानी, स्मिथ को मिली ये जिम्मेदारी 2

जिसके बाद काफी विचार विमर्श के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 1956 के बाद  एक स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज को कप्तान बनाया है। पैट कमिंस के करियर में ये एक बहुत ही बड़ा पल होगा कि वो ऑस्ट्रेलिया के लिए पिछले 65 साल के इतिहास में कप्तान के रूप में पहले तेज गेंदबाज होंगे।

स्टीवन स्मिथ करेंगे उपकप्तानी

पैट कमिंस को तो कप्तानी देने का फैसला किया गया तो वहीं कप्तानी के दावेदार में चल रहे स्टीवन स्मिथ को उनका डिप्टी बनाया गया है। स्टीवन स्मिथ साल 2018 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर बॉल टेंपरिंग कांड के बाद से कप्तानी से हटा दिए गए थे।

BREAKING- एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया ने पैट कमिंस को सौंपी कप्तानी, स्मिथ को मिली ये जिम्मेदारी 3

स्मिथ पर उसके बाद 12 महीनों का बैन लगाया गया था, वापसी पर वो केवल बतौर खिलाड़ी ही टीम का हिस्सा थे, लेकिन अब वो लीडरशिप का हिस्सा होंगे। भले ही स्मिथ को कप्तानी ना मिली हो, लेकिन उनके लिए लीडरशिप में शामिल करना कहीं ना कहीं उनके लिए अपने खोए सम्मान को फिर से हासिल करने के समान होगा।