विश्व कप में खराब प्रदर्शन से हरकत में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड, सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से हो सकती हैं इन खिलाड़ियों की छुट्टी

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

विश्व कप में खराब प्रदर्शन से हरकत में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड, सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से हो सकती हैं इन खिलाड़ियों की छुट्टी 

विश्व कप में खराब प्रदर्शन से हरकत में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड, सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट से हो सकती हैं इन खिलाड़ियों की छुट्टी

पाकिस्तान टीम विश्व कप के सेमीफाइनल में जगह बनाने में भी असफल रही। उन्होंने टूर्नामेंट के अंत में अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन शुरूआती मैचों में मिली बड़ी हारों की वजह से वह सेमीफाइनल में भी जगह नहीं बना पाए। इस हार के बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) हरकत में आ गयी है। इस प्रदर्शन का असर अब खिलाड़ियों के सालाना कॉन्ट्रैक्ट पर भी देखने को मिलेगा।

कॉन्ट्रैक्ट से हटेंगे नाम

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने पिछले साल अगस्त में 33 खिलाड़ियों को सालाना कॉन्ट्रैक्ट दिया था। इसमें से कई खिलाड़ियों को पाकिस्तान के लिए खेलने का ज्यादा मौका नहीं मिला और अब उनका नाम इससे हट सकता है।

बोर्ड कॉन्ट्रैक्ट के खिलाड़ियों की संख्या 33 से घटाकर 15- 20 तक ला सकती है। हालाँकि, उनकी मैच फीस और मासिक वेतन को बढ़ाया जायेगा। इस महीने के अंत तक कॉन्ट्रैक्ट खिलाड़ियों के नाम की घोषणा की जा सकती है।

इन खिलाड़ियों पर गिर सकती है गाज

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड उन खिलाड़ियों के नामों को भी चयनित कर चुके हैं, जिन्हें कॉन्ट्रैक्ट से बाहर किया जा सकता है। उन्हें ज्यादा वहीं खिलाड़ी हैं जो टीम में निरंतर नहीं हैं। स्पोर्ट्स्टार की सोर्स ने खिलाड़ियों के नाम के बारे में खुलासा करते हुए कहा

“साद अली, राहत अली, रुम्मन रईस, साहबज़ादा फरहान, उम्मेद आसिफ, तलत हुसैन, मीर हमजा और उस्मान सलाउद्दीन ने शायद ही अलग-अलग प्रारूपों में राष्ट्रीय टीम के लिए यहां कुछ खेल खेले हों।”

घरेलू खिलाड़ियों को भी कॉन्ट्रैक्ट

इसके साल ही पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड घरेलू क्रिकेट में खेलने वाले खिलाड़ियों को कॉन्ट्रैक्ट देने के बारे में विचार कर रही है। इसमें उन्हीं खिलाड़ियों को कॉन्ट्रैक्ट मिलेगा, जो प्रथम श्रेणी खेलने के लिए चुने जाते हैं।

इसके साथ ही सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट वाले खिलाड़ी घरेलू मैच में खेलते हैं तो उन्हें अलग से कॉन्ट्रैक्ट नहीं दिया जायेगा। इसके साथ ही बोर्ड घरेलू टूर्नामेंट को बेहतर करने पर भी जोड़ दे रही है। अगले घरेलू सीजन में सिर्फ 6 टीमें आपस में भिड़ेंगी।

Related posts