5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 1

आईसीसी क्रिकेट विश्वकप इन दिनों इंग्लैंड औऱ वेल्स की धरती पर खेला जा रहा है, जिनमें कुछ टीमों ने तो बेहतरीन प्रर्दशन किया है, वहीं कुछ टीमें जो अपेक्षा के अनुरुप प्रर्दशन नहीं कर पाई हैं. क्रिकेट में देखने में आता है कि प्रत्येक टीम में एक ऐसा खिलाड़ी अवश्य होता है, जो किसी भी वक्त खेल को बदलने का दमखम रखता है.

आज हम उन खिलाड़िय़ों के बारे में यहां बात करेंगे जो अपने खेल से पूरे गेम को ही बदलते हुए नजर आए हैं.

5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 2

विवियन रिचर्डसः

विवियन रिचर्डस जो कि अपने आक्रामक अंदाज के लिए जाने जाते थे. वह अपने समय़ के सबसे विस्फोटक बल्लेबाजों में गिने जाते थे. उन्होंने 70 के दशक में इस तरह से बल्लेबाजी की, कि उनके सामने कोई भी गेंदबाज गेंदबाजी करने से ड़रता था, इसीलिए 70 केस दशक में विंडीज टीम को खतरनाक टीम माना जाता था, क्योकि वह निडरता के साथ बल्लेबाजी करते हुए नजर आते थे. विवियन की आक्रामक शैली से प्रभावुत होकर अन्य बल्लेबाज भी आक्रामकता को अपनाते थे.

वसीम अकरमः

5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 3

पाक के तेज गेंदबाज के आगे कोई भी बल्लेबाज टिक नहीं पाता था, लाइन और लेंग्थ के साथ गेंदबाजी करने की कला उनको मजबूत बनाती थी. वह लाइन और लेंग्थ के साथ स्विंग गेंदबाजी में यकीन करते थे. उनके पास गति थी लेकिन उन्होंने स्विंग, लाइन और लेंग्थ पर ज्यादा भरोसा किया. उनकी गेंदबाजी की शैली को कई गेंदबाजों ने अपनाने की कोशिश की लेकिन वह इसमें कामयाब नहीं हो सकें.

शेन वार्नः

5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 4

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न जो लेग स्पिन में महारत हासिल किए हुए थे. वैसे तो लेग स्पिनर के लिए कोण के साथ गेंदबाजी करना आसान नहीं होता है, लेकिन शेन ने इस चीज को आसान बनाया है.

वह गेंद को कैसे किस कोण पर कहां से कहां गिराना है, ये कला केवल और केवल शेन के पास ही थी, आज के लेग स्पिनरों के पास वो सब नहीं देखना को मिलता है.

एडम गिलक्रिस्टः

5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 5

एडम के क्रिकेट में पदार्पण से पहले क्रिकेट 11 खिलाड़ियों का पूल माना जाता था, क्योंकि विकेटकीपर की भूमिका ज्यादा विकेट के पीछे ही मानी जाती थी, लेकिन उनके आने के बाद से इस द्रष्टिकोण को बदलने में मदद मिली, क्योकि वह एक अच्छे विकेटकीपर के साथ-साथ बल्लेबाज भी थे, जिन्होंने वनडे मैच में 90 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की. वह महान क्रिकेटरों में गिने जाते हैं.

सनथ जयसूर्याः

5 दिग्गज खिलाड़ी जो अकेले ही दम पर अपनी टीम को जीता देते थे मैच 6

श्रीलंका के दिग्गज बल्लेबाज सनथ ने मैदान के चारों ओर शॉट मारने के लिए जाते थे, वह किसी भी समय गेंदबाजों पर प्रहार कर देते थे.

उस समय की श्रीलंका टीम में यही खूबी थी कि शुरुआत से लेकर अंत तक आक्रामक बल्लबाजों की लाइन लगी हुई थी. इसलिए आज की श्रीलंका और उस समय की श्रीलंका टीम में बहुत अंतर था.