प्रज्ञान ओझा ने बयां किया टीम से ड्रॉप किए जाने का दर्द

Trending News

Blog Post

क्रिकेट

अंतिम मैच में 10 विकेट लेने के बाद भी धोनी ने नहीं किया टीम में बैक, अब संन्यास के बाद प्रज्ञान ओझा ने कही ये बात 

अंतिम मैच में 10 विकेट लेने के बाद भी धोनी ने नहीं किया टीम में बैक, अब संन्यास के बाद प्रज्ञान ओझा ने कही ये बात

भारतीय क्रिकेट टीम में एक वक्त मुख्य गेंदबाज के रूप में जगह बनाने वाले बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने आज अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर को अलविदा कह दिया. सचिन तेंदुलकर के साथ अपना आखिरी टेस्ट मैच खेलने के बाद से ओझा लंबे वक्त से टीम इंडिया से बाहर चल रहे थे. अब जबकि प्रज्ञान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं, तो उन्होंने टीम से ड्रॉप किए जाने पर अपने विचार व्यक्त किए हैं.

टेस्ट टीम से किया गया था ड्रॉप

प्रज्ञान ओझा

स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा ने 8 सालों से टीम इंडिया से बाहर चल रहे थे. उन्होंने अपना आखिरी टेस्ट मैच वेस्टइंडीज के खिलाफ नवंबर 2013 में खेला था. वहां स्पिनर ने 10 विकेट्स हासिल किए, लेकिन इसके बाद अचानक ही कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने ओझा को ड्रॉप कर दिया. अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास से टाइम्स नाव.कॉम में जब पूछा गया कि  10 विकेट्स लेने के बाद आपको ड्रॉप किया जाना कठोर विचार था? 

जिंदगी में कुछ चीजें हमारे कंट्रोल में नहीं होती हैं. अब ऐसी चीजों को देखने के दो तरीके होते हैं, आप या तो बैठ कर इसके बारे में सोच सकते हैं और या फिर इसे स्वीकार करके भारत का प्रतिनिधित्व करने के मौकों के बारे में सोच सकते हैं जो आपको मिले हो. मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया. इसलिए मैं खुश रहूंगा.

कप्तान धोनी ने नहीं किया था ओझा को बैक

प्रज्ञान ओझा के क्रिकेट करियर को खत्म करने में महेंद्र सिंह धोनी का बड़ा हाथ रहा. असल में 2013 के करीब ओझा के बॉलिंग एक्शन पर अंगुलियां उठाई जा रही थी. तब कुछ वक्त के लिए उन्हें टीम से ड्रॉप कर दिया गया था. लेकिन इसके बाद तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने उन्हें बैक नहीं किया. ओझा की जगह उन्होंने रविंद्र जडेजा को टीम में शामिल किया. इसके लिए धोनी पर टीम में फेवरेटिजम का आरोप भी लगाया गया था. प्रज्ञान ओझा ने टीम से ड्रॉप किए जाने पर  आगे कहा,

मैं वास्तव में ifs और buts के बारे में नहीं सोचता और जीवन में आगे बढ़ना पसंद करता हूं. हां, शायद एक क्रिकेटर के रूप में, मुझे भारत के लिए अधिक खेलना और देश के लिए अधिक खेल जीतना अच्छा लगता. लेकिन मुझे जो मौके मिले, यकीन मानिए मैंने उसका काफी आनंद लिया.

प्रज्ञान ओझा का शानदार क्रिकेट करियर

प्रज्ञान ओझा

प्रज्ञान ओझा ने भारतीय क्रिकेट टीम के लिए 24 टेस्ट मैचोंमें 30.27 के औसत के साथ 113 विकेट हासिल किए हैं. खिलाड़ी ने 7 बार एक पारी में 5 विकेट लेने का कारनामा किया था. जबकि एक बार वो 10 विकेट लेने में सफल रहे थे. 18 वनडे मैचों में स्पिनर ने 31.05 के औसत से 21 विकेट हासिल किए थे.

प्रज्ञान ओझा ने मात्र 4.47 की इकॉनमी से रन दिया है. 6 टी20 मैच में उन्होंने 13.2 के औसत से 10 विकेट लिया. जबकि 6.29 के शानदार इकॉनमी से रन दिए. प्रज्ञान ओझा ने न केवल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बल्कि आईपीएल में भी बड़ा नाम कमाया. ओझा ने 2010 में 21 विकेट के साथ गेंदबाज ने पर्पल कैप अपने नाम की थी.

Related posts